Police demanded curfew in Pandharpur before Ashadhi Ekadashi

पुणे. सोलापुर पुलिस ने जिला प्रशासन को कोरोना वायरस के मद्देनजर आषाढ़ी एकादशी से पहले पंढरपुर में कर्फ्यू लगाने का प्रस्ताव भेजा है। हर साल आषाढ़ी एकादशी पर लाखों श्रद्धालु पंढरपुर में भगवान विठ्ठल के मंदिर आते हैं, जो इस साल एक जुलाई को है। कोरोना वायरस के मद्देनजर अधिकारियों ने फैसला किया है कि इस वर्ष ‘वारि’ (तीर्थयात्रा) संत ज्ञानेश्वर, संत तुकाराम और अन्य के पादुकाओं के साथ आयोजित की जाएगी, जिन्हें हवाई या सड़क मार्ग से पंढरपुर ले जाया जाएगा । पारम्परिक रूप से आम तौर पर इन्हें पैदल ले जाया जाता है।

सोलापुर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अतुल जेंडे ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि बाहर के लोग मंदिर के बाहर इकट्ठे ना हों, इसलिए हमने सोमवार को ही नाकेबंदी कर दी। उन्होंने कहा, ‘‘ पंढरपुर में आवाजाही प्रतिबंधित करने के लिए कर्फ्यू लगाने की भी योजना है। पंढरपुर में 30 जून से दो जुलाई तक कर्फ्यू लगाने के लिए एक प्रस्ताव सोलापुर कलेक्टर को भी भेजा गया है।” उन्होंने बताया कि मंदिर प्रशासन ने जिन लोगों को ‘पास’ दिया है, केवल वहीं धार्मिक परिसर में दाखिल हो सकेंगे। आमतौर पर लाखों लोग इस दौरान यहां आते हैं लेकिन कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए अधिकारियों ने उत्सव को इस साल सादगी से मनाने का निर्णय किया है।(एजेंसी)