A man arrested for killing elder brother in Thane

पिंपरी. घर में सोए हुए सचिन उर्फ अंड्या लक्ष्मण चौधरी (22, निवासी रुपीनगर, तलवडे, मूल निवासी पुराबडी, राजस्थान) नामक युवक का अपहरण कर उसकी हत्या करने के बाद लाश को नदी में फेंके जाने की सनसनीखेज मामला रविवार की दोपहर पिंपरी चिंचवड़ में सामने आया। पैसों और वर्चस्व के विवाद में यह वारदात होने की जानकारी सामने आई है।

क्राइम ब्रांच यूनिट-1 ने दो आरोपियों को धरदबोचा

पुलिस की क्राइम ब्रांच यूनिट 1 की टीम ने इस मामले में फरार होने के चक्कर में रहे दो आरोपियों को धरदबोचा है। फिलहाल अन्य आरोपियों की तलाश जारी है।  गिरफ्तार किये गए आरोपियों में सनी उर्फ नकुल अनिल कुचेकर (25, वाल्हेकरवाडी, चिंचवड़), गौरव रमेश डांगले (22, जुना जकात नाका, चिंचवड़) का समावेश है। सचिन चौधरी के पिता लक्ष्मण हुकमाराम चौधरी (47) की शिकायत के आधार पर चिखली पुलिस ने योगेश दिनेश सावंत (22, रुपीनगर, पुणे), आकाश उर्फ गुंड्या प्रकाश भालेराव (चिंचेकर मला, टॉवर लाइन रोड, तलवडे), रुपेश प्रकाश आखाडे (23, शिवरकर चौक, त्रिवेणी नगर, पुणे) और उनके अन्य सात से आठ साथियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

घर से किया था अपहरण

पुलिस के मुताबिक, शुक्रवार की रात सचिन घर पर सोया हुआ था। करीबन डेढ़ बजे के आसपास आरोपी उसके घर आये और उसे नींद से उठाकर ले गए। उसके बाद सचिन दिनभर घर नहीं लौटा। इसके चलते उसके पिता ने पुलिस में इसकी रिपोर्ट दर्ज कराई। मामले की छानबीन के दौरान क्राइम ब्रांच यूनिट 1 की टीम ने एक आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने बताया कि उन्होंने मावल तालुका के परंदवडी में बेबडओहल के पुराने पुल पर डंडे से पिटाई करने के बाद सिर पर पत्थर मारकर सचिन की हत्या कर दी। उसके बाद लाश को पवना नदी में फेंक दी। रविवार को दिनभर खोज मुहिम चलाकर दोपहर तक सचिन की लाश बरामद कर ली गई।

योगेश के पैसों का लेनदेन संभालता था सचिन

क्राइम ब्रांच यूनिट 1 के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक डॉ अमरनाथ वाघमोड़े ने बताया कि, सचिन कई साल से योगेश सावंत के पास काम करता था और उसके पैसों का लेनदेन संभालता था। योगेश को शक था कि सचिन उसके पैसों के लेनदेन में हेराफेरी कर रहा है। इसी के गुस्से में उसने सनी कुचेकर और अन्य साथियों के साथ मिलकर सचिन को अगवा कर उसकी निर्ममता से हत्या कर दी। सनी पुलिस के रिकॉर्ड पर दर्ज अपराधी है उसके खिलाफ चोरी और मारपीट के दो मामले दर्ज हैं। आरोपी योगेश सावंत के खिलाफ निगडी पुलिस थाने में मारपीट और हत्या के प्रयास के 5, आकाश भालेराव के खिलाफ 4, रुपेश आखाडे के खिलाफ चिखली थाने में डकैती और मारपीट के दो मामले दर्ज हैं।