ड्रेस कोड नोटिस हटाने के लिए अल्टीमेटम

  • शिर्डी संस्थान के ड्रेस कोड का तृप्ति देसाई ने किया विरोध

पुणे। लाखों श्रद्धालुओं के श्रद्धा का केंद्र शिर्डी  के साईं बाबा मंदिर के प्रशासन ने मंदिर में प्रवेश के लिए श्रद्धालुओं के लिए ड्रेस कोड निर्धारित किया है। शिर्डी संस्थान ने एक नोटिस लगाकर श्रद्धालुओं से अपील की है कि वे मंदिर में दर्शन के लिए छोटे कपड़ों को पहनकर ना आएं। वे भारतीय परिधानों में ही बाबा के दर्शन के लिए आएं। इस ड्रेस कोड को लेकर अब विवाद शुरू हो गया है। पुणे की सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई ने संस्थान को चुनौती देते हुए कहा है कि अगर 10 दिसंबर तक नोटिस नहीं हटाया जाता है, तो वो खुद ही इसे हटा देंगी।

भक्तों के साथ लूट की आशंका

मीडिया से बातचीत में देसाई ने कहा है कि साईं बाबा मंदिर के प्रशासन द्वारा नोटिस लगाना गलत है। अगर ये नियम लागू रहता है तो ऐसा देश के अन्य मंदिरों में भी हो सकता है। इसके बाद वहां पर चेंजिंग रूम की व्यवस्था करनी पड़ेगी, जहां भारतीय परिधानों को किराए पर दिया जाएगा। इससे भक्तों के साथ लूट होने की आशंका है। देसाई ने कहा कि मंदिर प्रशासन की तरफ से जारी नोटिस में छोटे कपड़ों को लेकर कोई व्याख्या नहीं की गई है, क्योंकि अगर ऐसा है तो मंदिर के पुजारी भी अर्ध-नग्न वस्त्रों को धारण करते हैं, ऐसे में उन पर भी ये नियम लागू होता है।

10 दिसंबर तक हटाएं नोटिस

तृप्ति देसाई ने चुनौती दी है कि, अगर मंदिर प्रशासन उस नोटिस को बोर्ड से 10 दिसंबर तक नहीं हटाता है तो कार्यकर्ता खुद जाकर उसे हटा देंगे।सामाजिक कार्यकर्ता देसाई ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिख कर उनसे आग्रह किया है कि शिरडी साई बाबा मंदिर न्यास द्वारा श्रद्धालुओं को सभ्य तरीके से कपड़े पहनकर आने की अपील करने के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। इस पत्र में भी उन्होंने अपनी चेतावनी दोहराई है कि यदि न्यास ने श्रद्धालुओं के लिए लगाए गए नोटिस बोर्ड नहीं हटाए तो वह और अन्य कार्यकर्ता 10 दिसंबर को मंदिर जाकर बोर्ड हटा देंगे।

दरअसल, शिरडी में स्थित साईं बाबा के भक्त उनके दर्शन के लिए दुनियाभर से यहां पहुंचते हैं, लेकिन अब शिरडी साईं मंदिर संस्थान ने दर्शन के लिए आने वाले सभी भक्तों से अपील की है कि वे भारतीय परिधान पहनकर आएं। संस्थान का कहना है कि कुछ दिनों से हमें यह शिकायत मिल रही थी कि कुछ महिला श्रद्धालु छोटे वस्त्रों को पहनकर बाबा के दर्शन के लिए आ रही हैं, यही वजह है कि यह निर्णय लिया गया है। मंदिर ट्रस्ट ने सभी भक्तों से मंदिर परिसर में सिर्फ भारतीय परिधान पहनकर आने का अनुरोध किया है। मंदिर ट्रस्ट ने परिसर में इस संबंध में नोटिस भी लगाया है।