arrest

  • लेनदेन का विवाद, चाकण पुलिस ने कराई युवक की रिहाई

पिंपरी. ऑटो रिक्शा के पैसों के लेनदेन के विवाद में एक युवक को अगवा कर उसके क्रेडिट कार्ड से शराब खरीदने के बाद उसके भाई से 25 हजार रुपए की फिरौती मांगे जाने का मामला सामने आया है. 

पिंपरी-चिंचवड़ की चाकण पुलिस में अपहृत युवक को सही सलामत रिहा कर चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. शुक्रवार की शाम 5 से शनिवार की दोपहर 12 बजे तक चाकण और पिंपरी चिंचवड़ में यह वारदात हुई.

25 हजार रुपए की फिरौती मांगी

मनीषकुमार विष्णुप्रसाद भगत (24) ऐसे अपहृत युवक का नाम है. इस मामले में पुलिस ने सिकंदर उर्फ मोहम्मद रफिक इस्माईल नदाफ (32), कुमार तात्याराम पांडागले (32), अमित पांडुरंग गायकवाड (25), प्रमोद उर्फ पप्पू रोहिदास फुलपगारे (34) को गिरफ्तार किया गया है.उनके खिलाफ मनीष कुमार ने चाकण पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है.

पर्स और मोबाइल छीन लिया

पुलिस के अनुसार, मनीषकुमार नाणेकरवाडी में डिप्लोमा इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं.उनका मित्र अनिल गोरे ऑटो रिक्शा चलाता है.उसका और आरोपियों के बीच रिक्शा के पैसों के लेनदेन को लेकर विवाद चल रहा है.इसी विवाद में आरोपी शुक्रवार की शाम 5 बजे के करीब मनीष कुमार के घर गए और अनिल के बारे में पूछताछ करने लगे. इसके बाद वे उन्हें जबरन रिक्शा में बिठाकर पिंपरी के वल्लभनगर ले गए.यहां उन्होंने मनीष का पर्स और मोबाइल छीन लिया.धमकाकर उनके क्रेडिट कार्ड का पिन कोड पूछकर कार्ड से शराब खरीदी.इसके बाद उनके भाई अभिषेक भगत को फोन कर मनीष को छोड़ने के लिए 25 हजार रुपए की फिरौती मांगी.उन्होंने मनीष आरोपी सिकंदर के कमरे में कैद कर रखा था.शनिवार को जब पुलिस को इस घटना की जानकारी मिली तब तुरंत हरकत में आते हुए पुलिस ने मनीष को सही सलामत छुड़ाया और चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.