IOC अध्यक्ष थॉमस बाक जाएंगे हिरोशिमा के दौरे पर

    टोक्यो. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के अध्यक्ष थॉमस बाक शुक्रवार को हिरोशिमा के दौरे पर जाएंगे जिससे जापान का यह शहर एक बार फिर दुनिया भर में सुर्खियां बनेगा लेकिन वहां सभी लोग उनके स्वागत के लिए तैयार नहीं हैं। पश्चिमी जापान का यह शहर विश्व शांति अभियान का अगुआ है और नाभिकीय हथियारों को खत्म करने का अभियान चला रहा है।

    आईओसी के उपाध्यक्ष जॉन कोएट्स भी इसी दिन नागासाकी का दौरा करेंगे। जापान के लोगों को इन दोनों शहरों को लेकर किसी तरह की राजनीति पसंद नहीं है क्योंकि कई जापानी इन्हें पवित्र मानते हैं। अमेरिका ने 1945 में इन दोनों शहरों पर परमाणु बम से हमला किया था और बाक तथा कोएट्स ओलंपिक संघर्ष विराम के पहले दिन का प्रचार करेंगे। यह प्राचीन यूनान की परंपरा है जिसे 1993 में संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव के जरिए दोबारा शुरू किया गया। बाक और कोएट्स तोक्यो ओलंपिक की शुरुआत की एक हफ्ते की उलटी गिनती भी शुरू करेंगे।  

    हिरोशिमा के गवर्नर हिदेहिको युजाकी बाक का स्वागत करेंगे और उनके शांति स्मृति पार्क में फूल-माला चढ़ाने, शांति स्मृति संग्रहालय का दौरा करने और परमाणु बम डोम देखने की संभावना है। हालांकि सभी उनके स्वागत के लिए तैयार नहीं हैं। हिरोशिमा बार एसोसिएशन के पूर्व प्रमुख शुइची अदाची ने इस हफ्ते युजाकी और हिरोशिमा के मेयर काजुमी मात्सुई को कड़े शब्दों में पत्र लिखकर बाक की यात्रा का विरोध किया है। उन्होंने 11 ओलंपिक विरोधी और शांतिवादी समूहों की आरे से यह पत्र लिखा।

    समूह ने बयान में कहा, ‘‘अध्यक्ष बाक नाभिकीय हथियारों के बिना शांतिपूर्ण दुनिया की छवि का इस्तेमाल महामारी के बीच ओलंपिक के आयोजन के लिए बाध्य करने को न्यायोचित साबित करने के लिए कर रहे हैं। इस तरह की कार्रवाई से परमाणु हथियारों के वैश्विक प्रतिबंध अभियान को नुकसान ही होगा।” बाक ने यात्रा का दिन भी गलत चुना है। 16 जुलाई को ही न्यू मैक्सिको में ट्रिनिटी परमाणु परीक्षण के 76 बरस पूरे होंगे। इसी परीक्षण ने कुछ हफ्तों बाद हिरोशिमा और नागासाकी में हमले का मंच तैयार किया था। (एजेंसी)