virat-kohli

    – विनय कुमार

    टीम इंडिया के धांसू कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain Indian Cricket Team) आज अपनी घातक बल्लेबाजी को लेकर समूची दुनिया में मशहूर हैं। रनमशीन भी पुकारा जाता है उन्हें। क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में उनके बल्ले से रन बरसे हैं। क्रिकेट का इतिहास बताता है कि विराट कोहली वनडे क्रिकेट (Virat Kohli ODI Runs) में 10 हज़ार से ज्यादा रन बना चुके हैं। T20 और टेस्ट क्रिकेट में भी तेजी से रन बना रहे हैं। कप्तान विराट कोहली को लेकर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व धाकड़ सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virendra Sehwag) ने एक हैरान करने वाला खुलासा किया है।

    एक इंटरव्यू में वीरेंद्र सहवाग ने बताया कि किस तरह टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni)  ने विराट कोहली (Virat Kohli) के खत्म होते करियर को बचाया था और उन्हें दूसरा मौका दिया था। 

    वीरेंद्र सहवाग ने कहा “2012 में ऑस्ट्रेलिया के दौरे (India vs Australia 2012 Virat Kohli) में कोहली ने कोई खास प्रदर्शन नहीं किया था। उन्होंने उस दौरे में 10.75 की औसत से रन बनाए थे। जिसके कारण चयनकर्ता (team Selectors) कोहली को ड्रॉप करना चाहते थे। वे विराट की जगह रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को टीम में शामिल करना चाहते थे।”

    उन्होंने आगे कहा ” चयनकर्ताओं के इस फैसले का धोनी (MS Dhoni Captain Indian Cricket Team) ने विरोध किया और कोहली को एक और मौका देने की बात कही। जिसके बाद कोहली (Virat Kohli) ने तीसरे टेस्ट की (3rd Test IND vs AUS Test Series 2012) पहली पारी में 44 रन और दूसरी पारी में 75 रन की पारी खेली।”

    गौरतलब है कि, भारतीय तीमंके मौजूदा कप्तान विराट कोहली भी इस बात को मानते हैं कि उनके अंतरराष्ट्रीय करियर के शुरुआती दिनों में उन्हें उस समय के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) का सपोर्ट मिला था और उन्हें टीम से ड्रॉप किया जाने से बचाया था।

    कप्तान विराट कोहली के अलावा रोहित शर्मा (Virat Kohli), रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja), रविचन्द्र अश्विन (Ravichanran Ashwin) और सुरेश रैना (Suresh Raina) जैसे कई ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्हें ‘कैप्टेन कूल’ एमएस धोनी ने उनके करियर के शुरुआती दिनों में पूरा सपोर्ट किया और उन्हें कई मौके भी दिए थे।

    वहीं टीम इंडिया के पूर्व महाविस्फोटक बल्लेबाज युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने भी एक इंटरव्यू में कहा था कि विराट कोहली को 2011 के ICC ODI WORLD CUP  के लिए रोहित शर्मा (Rohit Sharma) से पहले तवज्जो दी गई थी। युवराज सिंह ने बताया था कि विराट कोहली टीम इंडिया में में 2008 में शामिल हुए थे। तभी उन्होंने अपने प्रदर्शन में दिखाया था कि उनमें काफी संभावनाएं हैं। उन्हें जैसे ही मौके मिले उन्होंने मौके लपक लिए।

    ‘सिक्सर किंग’ ने कहा “WORLD CUP 2011 टीम में उन्हें इस वजह से मौका मिला था, क्योंकि वो बहुत युवा थे। उस समय रोहित शर्मा (Rohit Sharm और विराट कोहली (Virat Kohli) के बीच मुकाबला था, लेकिन कोहली खूब रन बना रहे थे। इसी कारण से उन्हें मौका दिया गया। उसके बाद यानी, ICC WORLD CUP, 2011 से अब तक वो (Virat Kohli) बहुत बदल चुके हैं।”