out-of-favour-kuldeep-yadav-likes-to-reflect-on-errors-when-things-go-wrong

    -विनय कुमार

    भारतीय खिलाड़ी कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) ने एक भारतीय कप्तान और अंतरराष्ट्रीय कप्तान के अंडर खेलने के बीच के अंतर को खुलकर बताया है। उन्होंने इस बात का दिल खोलकर खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि आखिर दोनों कप्तानों के अधीन खेलने में क्या फर्क है। बाएं हाथ स्पिन गेंदबाज कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav Left Arm Spinner) ने एमएस धोनी (MS Dhoni), विराट कोहली (Virat Kohli), रोहित शर्मा (Rohit Sharma), गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) और दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) जैसे भारतीय कप्तानों के अंडर ‘IPL T20 TOURNAMENT’ खेला है। हालांकि, इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) के 2020 सीजन के बीच में ‘कोलकाता नाइट राइडर्स’ (Kolkata Knight Riders KKR) के कप्तान बनने के बाद कुलदीप यादव को एक विदेशी कप्तान के मातहत खेलने का पहला अनुभव मिला। जब से इयोन मोर्गन ने दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) की जगह Kolkata Knight Riders की कप्तानी संभाली है, तब से कुलदीप यादव को ‘प्लेइंग इलेवन’ (KKR Playing-XI) में कोई अवसर नहीं मिला।

    गौरतलब है कि IPL 2021 में कुलदीप यादव को अभी तक एक भी मैच खेलने का अवसर नहीं मिला है। कुलदीप यादव ने कहा कि एक भारतीय कप्तान के होने पर खेल से जुड़े विभिन्न पहलुओं को लेकर संपर्क करना तुलनात्मक आसान है। लेकिन, जब विदेशी खिलाड़ी टीम के कप्तान होते हैं तो काफी अंतर नजर आता है। 

    कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) ने कमेंटेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) के यूट्यूब चैनल पर कहा, “बेशक यह एक विशेष अंतर बनाता है। मैंने अभी तक इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) की कप्तानी में नहीं खेला है, और मुझे यकीन नहीं है कि वे मुझे लेकर क्या नजरिया रखते हैं। KKR के कप्तान बनाए जाने से पहले हम उनसे बहुत ज्यादा नहीं मिले थे। जब हम इंग्लैंड के खिलाफ खेले (IND vs ENG) तो मैंने उन्हें बस यूं ही देखा था। एक अंतरराष्ट्रीय कप्तान (International Captain) के साथ खुलकर  बातें नहीं हो पाती है। लेकिन, एक भारतीय कप्तान (Indian Captain) के साथ आप हमेशा खुलकर बातें कर सकते हैं। और जब चाहें उनके पास जा सकते हैं और पूछ सकते हैं कि Playing-XI में क्यों नहीं चुना गया। अगर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) आपकी टीम के कप्तान हैं, तो आप उनसे पूछ सकते हैं कि वो आपकी भूमिका को लेकर क्या चाहते हैं। वे आपकी काबिलियत को लेकर क्या सोचते हैं और आप कहां तक आगे बढ़ सकते हैं। लेकिन, एक विदेशी खिलाड़ी के टीम के कप्तान के साथ ऐसा नहीं है। उन्हें भी अपनी टीम के खिलाड़ियों से भी बात करनी चाहिए।”

    गौरतलब है कि आज से करीब 5 साल पहले 2016 में कुलदीप यादव ने गौतम गंभीर (Gautam Gambhir IPL) की कप्तानी में IPL T20 TOURNAMENT में कदम रखा था। क्रिकेट-पंडितों का मानना है कि कुलदीप काफी आगे भी जाएंगे। हालांकि, 2018 के सीज़न के बाद से वे बेहतरीन प्रदर्शन नहीं कर पाए। आईपीएल का इतिहास बताता है कि  कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) ने IPL T20 TOURNAMENT में अब तक खेले 45 मैचों में 8.28 की इकॉनमी रेट से केवल 40 विकेट ही हासिल कर पाए हैं।