Image: Lovlina Borgohain/Twitter
Image: Lovlina Borgohain/Twitter

    नई दिल्ली: टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics 2020) में महिलाएं जो कारनामा कर रही हैं वह काबिल-ए-तारीफ है। भले ही बॉक्सिंग रिंग (Boxing Ring) में भारत के पुरुष मुक्केबाज नाकाम रहे, लेकिन भारतीय महिला बॉक्सरों ने अपना खाता जीत के साथ खोल दिया है। जहां मैरी कॉम (Mary Kom) ने भारत की उम्मीद को कायम रखा है, वहां भारत की लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) ने भी वेल्टरवेट कैटेगरी में अपना मुकाबला जीतकर भारत को एक और उम्मीद दे दिया है। लवलीना ने राउंंड ऑफ 16 में जर्मनी की अपने से कहीं ज्यादा अनुभवी बॉक्सर को शिकस्त देकर मैडल के एक कदम और नज़दीक पहुंच गई है। भारत की महिला मुक्केबाज वे ये मुकाबला 3-2 से जीता है।

    जर्मन बॉक्सर के साथ लवलीना के इस मुकाबले की शुरुआत काफी जोरदार हुई। दोनों ने बॉक्सर काफी आक्रामक थीं। जहां मुकाबला का पहला राउंड लवलीना ने जीता, वहीं दूसरे राउंड में जर्मनी की बॉक्सर ने अपने अनुभव का इस्तेमाल किया लेकिन फिर भी वह दूसरा राउंड हार गईं। फिर बात आई तीसरे राउंड की। यह राउंड बेहद ही रोमांचक रहा। पहले दो राउंड में भारत के नाम रहे, लेकिन तीसरे राउंड में जर्मनी की बॉक्सर काफी जोश के साथ उतरी। अपने भारतीय विरोधी पर खूब प्रहार भी किए। लेकिन अंत में जीत भारत लवलीना की ही हुई। भारत की लवलीना ने राउंड ऑफ 16 का ये मुकाबला जीतकर क्वार्टर फाइनल का टिकट कटा लिया है।

    क्वार्टर फाइनल में चीनी ताइपे से मुकाबला

    क्वार्टर फाइनल में अब भारतीय बॉक्सर लवलीना का मुकाबला चीनी ताइपे की चेन नेन के साथ होगा। चीनी ताइपे की बॉक्सर ने राउंड ऑफ 16 के मैच में इटली की बॉक्सर को हराकर अपनी यह जगह बनाई है। 2018 के वर्ल्ड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल मैच में चेन ने लवलीना को हराकर गोल्ड मेडल की रेस से बाहर कर दिया था। इस बार लवलीना के पास अपना बदला लेने का शानदार मौका है। अगर लवलीना ये मैच जीत लेती हैं तो पदक उनके नाम हो जाएगा।