(Image-twitter-@umasribharti)
(Image-twitter-@umasribharti)

    भोपाल/ निवाड़ी: भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने पार्टी शासित मध्यप्रदेश में पूर्ण शराबबंदी की अपनी मांग के चलते यहां निवाड़ी जिले के ओरछा कस्बे में शराब की एक दुकान पर मंगलवार रात को गाय का गोबर फेंक दिया। घटना के बाद मंगलवार को उमा भारती ने एक ट्वीट में दावा किया कि ओरछा के प्रवेश द्वार पर स्थित यह दुकान इस जगह के लिए स्वीकृत नहीं है, बल्कि यह किसी दूर गांव के लिए स्वीकृत है और पवित्र शहर ओरछा में दुकान खोलना ही महाअपराध है।   

    हालांकि पुलिस ने कहा कि दुकान उसी स्थान पर स्थित है जहां इसे मंजूरी दी गई है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया है जिसमें उमा भारती भोपाल से 330 किलोमीटर दूर स्थित राम राजा मंदिर के लिए प्रसिद्ध धार्मिक नगरी ओरछा में मंगलवार शाम को शराब की एक दुकान पर गाय का गोबर फेंकती नजर आ रही हैं। वीडियो में उमा भारती यह भी कहते सुनाई दे रही हैं , ‘‘ देखो, मैंने गाय का गोबर फेंका है, पथराव नहीं किया है।”   

     

    मालूम हो कि इस साल मार्च में प्रदेश की मुख्यमंत्री रह चुकी उमा भारती ने भोपाल के एक मोहल्ले में शराब की एक दुकान पर पथराव किया था। मंगलवार रात को लगातार ट्वीट कर उमा भारती ने कहा, ‘‘ ओरछा के प्रमुख प्रवेश द्वार पर स्थित यह दुकान इस जगह के लिए स्वीकृत ही नहीं है, यह किसी दूर गांव के लिए स्वीकृत है लेकिन यह ओरछा के मुहाने पर खुली है। इस बारे में जनता ने एवं हमारे संगठन के लोगों ने लगातार धरने प्रदर्शन किए।” उन्होंने कहा, ‘‘ सरकार को ज्ञापन दिए तथा प्रशासन से भी इस दुकान को हटाने हेतु बार बार गुहार लगाई क्योंकि यह इस पावन नगरी के माथे पर बड़ा कलंक है।” 

     

    उन्होंने आगे कहा, ‘‘ अयोध्या के बराबर पावन मानी जाने वाली ओरछा नगरी में जब रामनवमी पर दीपोत्सव हुआ, पांच लाख दिये जले, मुख्यमंत्री जी थे तथा मैं भी थी, तब भी यह दुकान उस पावन दिन पर भी खुली थी।” उन्होंने कहा, ‘‘ इसलिए पवित्र गौशाला की गाय का थोड़ा सा गोबर मैंने शराब की दुकान पर छिड़क दिया है।” भाजपा नेता ने कहा कि यह शर्मनाक है कि हमारी विचारधारा से जुड़े संगठनों के विरोध के बावजूद दुकान अब भी चल रही है।   

    इस बीच, ओरछा थाना प्रभारी अभय सिंह ने कहा कि शराब की दुकान उसी स्थान पर है जहां इसकी मंजूरी मिली थी। उन्होंने कहा कि गाय का गोबर फेंकने के बाद शराब के ठेकेदार ने दुकान को अस्थायी तौर पर बंद कर दिया है। चालू वित्त वर्ष में, मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार ने अपनी नई आबकारी नीति के तहत होम बार स्थापित करने की अनुमति दी है और शराब के खुदरा मूल्य में 20 प्रतिशत की कमी की है।