धोखे से हताश संतरा उत्पादक ने की आत्महत्या, सुसाईड नोट में मंत्री बच्चू से न्याय का गुहार

अंजनगांव सुर्जी: संतरा बगीचे की खरीदी बिक्री में दो व्यापारियों द्वारा किए गए धोके से हताश किसान ने मंगलवार को जहर गटककर आत्महत्या कर ली. उसने सुसाईड नोट में मंत्री बच्चू कडू से न्याय की गुहार लगाई. मृतक अशोक पांडूरंग भुयार (55) है. घटना के बाद मृतक के परिजनों ने आक्रोश किया. धोका देने वाले दो व्यापारियों व पुलिस कर्मी को पर मामले दर्ज की मांग करते हुए शव लेने से इंकार कर दिया. जिससे क्षेत्र में तनाव की स्थिति बनी. 

पुलिस ने नहीं ली शिकायत

धनेगांव निवासी संतरा उत्पादक किसान अशोक भुयार ने अपना संतरे का बगीचा अंजनगांव निवासी व्यापारी शे. अमिन  व शे. गफुर को बेचा . परिजनों का आरोप है कि दोनों व्यापारियों ने अशोक को धोके से शराब पिला कर उनसे रुपए न देते हुए रसीद पर हस्ताक्षर करवा लिए व उसके साथ मारपीट की. इसकी शिकायत करने अशोक 18 दिसंबर शुक्रवार को अंजनगांव सुर्जी पुलिस थाने गया.

लेकिन यहां बीट जमादार दीपक श्रावण जाधव ने उसकी शिकायत नहीं ली. इतना ही नहीं तो उसकी पिटाई भी की. परेशान हाल अशोक ने मंगलवार को बोराला गांव के गणेश मंदिर के पास एक खेत में जहर प्राषण कर आत्महत्या कर ली. लेकिन आत्महत्या से पहले उन्होंने अपने साथ हुए बर्ताव की पूरी जानकारी मंत्री बच्चू कडू के नाम लिखे चिठ्ठी में दी. 

परिजनों ने शव लेने से किया इंकार

अशोक की आत्महत्या की सूचना मिलते ही परिजनों से आक्रोश किया. तनाव की स्थित को देखते हुए अपर पुलिस अधीक्षक श्याम घुगे भी अपनी टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंचे. मृतक के पुत्र गौरव भुयार की शिकायत पर पुलिस ने व्यापारी शे. अमिन  व शे. गफुर तथा पुलिस उपनिरीक्षक दीपक जाधव के खिलाफ आत्महत्या के लिए प्रवृत्त करने का मामला दर्ज किया है.   मामले की जांच एसडीपीओ मोरे कर रहे हैं. 

सीसीटीवी में पीटने के की घटना कैद

परिजनों के हंगामें के चलते वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने थाने में लगाए सीसीटीवी फुटेज देखे. जिसमें पुलिस कर्मी जाधव अशोक भुयार को पिटते हुए क्लीप दिखाई दी. जिसके बाद परिजनों के साथ गांव वासिसों का भी पुलिस के खिलाफ रोष प्रदर्शन हुआ. 

तथ्यहिन है आरोप

जो घटना हुई है दुखद है. हम भी इंसानियत की भावना रखते हुए अपनी ड्यूटी करते हैं. मृतक के परिजनों ने आरोप लगाए हैं वे तथ्यहिन है. -राजेश राठोड़, थानेदार