Online loot in the name of reward gift, new fund of financial fraud

अमरावती. साइबर अपराधियों की ओर से कोरोना वैक्सीन पंजीकृत करने के नाम पर नागरिकों को फोनकर उनसे जालसाजी की जा रही है. इसलिए नागरिकों ने ऐसे ठगबाजों से सतर्कता रहने की अपील पुलिस आयुक्त डा.आरती सिंह की है.

इंटरनेट के माध्यम से फांसने का प्रयास

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार द्वारा किए गए विभिन्न उपाय योजना चलाई जा रही है. वर्तमान में कोरोना बीमारी के खिलाफ प्रभावी वैक्सीन सरकार द्वारा दी जाएगी. इस पृष्ठभूमि में साइबर अपराधी इंटरनेट के माध्यम से नागरिकों को ठगने की कोशिश कर रहे है. इसीलिए नागरिकों को सतर्क रहना चाहिए ताकि ऐसी घटनाएं न हों ऐसा आहवान सीपी डा.आरती सिंह ने किया है.

ऐसी हो सकती है धोखाधड़ी 

साइबर क्राइम करने वाले लोग कोरोना वैक्सीन पंजीकृत करने के नाम पर नागरिक को कॉल करते है. ऑनलाइन पंजीकरण के नाम पर आधार कार्ड, ईमेल आईडी और इस प्रक्रिया के दौरान आए ओटीपी जानकर नागरिकों से धोखाधड़ी की जा रही हैं.

ऐसी सावधानियां बरतें

सरकार की ओर से जनता को कोविड वैक्सीन देने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की मांग नहीं है. इसके अलावा फोन कॉल के जरिए आधार कार्ड, ओटीपी या ईमेल आईडी की आवश्यकता नहीं है. अगर ऐसा अनुरोध फोन पर किया जाता है, तो यह है जानकारी नहीं दी जानी चाहिए. यदि आधार प्रमाणीकरण के नाम पर ओटीपी सांझा किया जाता है अपने आधार कार्ड के साथ बैंक खाते से पैसे निकालकर जालसाजी करना होने की संभावना है. तो कोई बैंक सूचना या ओटीपी नहीं सांझा जाना चाहिए कोई इस तरह से धोखा दे रहा है, या धोखा देने के बारे में प्रयास कर रहा है तो संबंधित व्यक्ति की साइबर पुलिस से शिकायत करें