हम रेफ्यूजी, हमें किराए में रियायत दो; व्यापारियों का AMC को जवाब

    अमरावती.  हम शरणार्थी (रेफ्यूजी) लोग है. हमें मनपा व्यापारी संकुलों की दूकानों के बढ़ाए हुए किराए में रियायत दी जाए. इस तरह का अनुरोध शहर के हृदयस्थल व प्रमुख व्यापारी क्षेत्र में 20 से अधिक वर्षों से व्यवसाय कर रहे व्यापारियों ने मनपा आयुक्त से की है.

    महानगर पालिका के सभी व्यापारी संकुलों का किराया अब शासन निर्देशों के अनुसार रेडिरेकनर के आधार पर तय किया गया है. लेकिन व्यापारियों को यह बढ़ाया हुआ किराया मान्य नहीं है. जिसके लिए उन्होंने महानगर पालिका की प्रस्तावित कार्रवाई व नए निर्धारित किराए से बचने के लिए हर संभव प्रयास शुरू किए है.  

    72 से अधिक व्यापारियों ने दर्ज कराई आपत्ति 

    शहर के जवाहर गेट व्यापारी संकुल के 72 से अधिक व्यापारियों ने मनपा की किराया वृद्धि  नोटिस के खिलाफ आपत्ति दर्ज कराई है.  मनपा द्वारा जिन व्यापारी संकुलों की किराया करार समयसीमा खत्म हो चुकी है, ऐसे सभी व्यापारियों को धारा 81-B(1), (b) व 81-C(2) अंतर्गत नए निर्धारित रेट पर किराया वसूली के नोटिस जारी किए है, लेकिन व्यापारियों को मनपा ने शासन निर्देशानुसार तय किए हुए नए रेट मान्य नहीं है. 

    वर्षों से लंबित है मुद्दा  

    महानगर पालिका के व्यापारी संकुलों का किराया जो अब तक केवल 1 रुपया स्क्वेअर फीट था. उसे बढ़ाकर 39 से 53 रुपए स्क्वेअर फीट कर दिया गया है. शहर के हृदय स्थल व प्रमुख व्यापारी क्षेत्रों में स्थित यह व्यापारी संकुल है. लेकिन यहां के दुकानदार मनपा को किराया बढ़ाकर देने के मूड में ही नहीं है. कई वर्षों से यह मामला लंबित है. मनपा प्रशासन का कहना है कि अब तक का बकाया किराया भी संबंधित व्यापारियों ने अदा किया नहीं है.