पुरानी पेंशन के लिए चंद्रपुर में सभी कर्मचारीयों का एल्गार, 2005 के बाद के सभी कर्मचारीयों को पुरानी पेंशन लागू करे

    चंद्रपुर. 1 नवम्बर 2005 व उसके बाद नियुक्त सभी कर्मचारीयों को 1982_84 की पुरानी पेंशन योजना का लाभ मिलने हेतु 22 नवम्बर 2021 से मुंबई के आजाद मैदान से निकली भव्य पेंशन संघर्ष यात्रा का महासंम्मेलन महामानव डा. आम्बेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस अर्थात 6 दिसम्बर 2021 को शहर के न्यु इंग्लिश ग्राऊंड वरेारा नाका परिसर में हजारों कर्मचारीयों उपस्थिति में लिया गया. महासंम्मेलन के लिए सभी कर्मचारीयों ने सरकार के खिलाफ एल्गार का एक ही नारा लगाया.

    संम्मेलन में अध्यक्ष व निमंत्रक तौर पर विदर्भ माध्यमिक शिक्षक संघ के सरकार्यवाह तथा पुरानी पेंशन संघर्ष समन्वय समिति के निमंत्रक सुधाकर अडबाले, विपीन धाबेकर, पुरानी पेंशन संगठन के राज्य समन्वयक व राज्याध्यक्ष वितेश खांडेकर, प्राजक्त झावरे, नदिप पटेल, मधुकर काठोले, उगले आदि उपस्थित थे. 

    कार्यक्रम का प्रास्ताविक विपिन धाबेकर ने किया. सभा में राज्य समन्वय समिति पदाधिकारी समेत चंद्रपुर के संगठन पदाधिकारी श्रीहरी शेंडे, हरिश ससनकर, मोरेश्वर बारसागडे, अण्णा आडे, गोविंद उगले, दिपीका एरंडे तथा मृत कर्मचारी की ओर से उनके परिवार के सदस्यों ने विचार व्यक्त किए. इस दौरान सभा में संघर्ष यात्रा का स्वागत किया गया. 

    संम्मेलन में सावली तहसील के मृत शिक्षक जगदिश चिकराम की बेटी सिमरन ने उनके पिता की मृत्यु को 3 वर्ष होने के बावजूद सरकार की ओर से सहायता नही मिली. माता के निधन के पश्चात विकलांग वृध्द दादा व दादी समेत मजदूरी कार्य कर जीवन यापन करने की जानकारी दी. दौरान कई मृत कर्मचारीयों के परिवारों की व्यथा सुनने के पश्चात महासंम्मेलन का वातावरण गंभीर हो गया था. 

    मृत कर्मचारीयों के परिवार को पुरानी पेंशन दिलाने व सभी कर्मचारीयों को पुरानी पेंशन दिलाने हेतु शितकालीन अधिवेशन में कल्याण से मुंबई तक पेंशन मार्च निकालकर पुरानी पेंशन मिलने तक ठिय्या आंदोलन करने का आह्वान महाराष्ट्र राज्य पुरानी पेंशन संघर्ष समन्वय समिति के संयोजक तथा राज्याध्यक्ष वितेश खांडेकर ने किया. 

    महासंम्मेलन के अध्यक्ष तथा चंद्रपुर जिला पुरानी पेंशन संघर्ष समिति के निमंत्रक सुधाकर अडबाले ने अध्यक्षीय भाषण में पुरानी पेंशन यह नई अंशदायी पेंशन योजना से अधिक फायदे की कैसे है इसकी जानकारी दी. समान काम समान वेतन के तहत 1982_84 की पुरानी पेंशन मिलना यह सभी प्रत्येक कर्मचारीयों का संवैधानिक अधिकार होने की जानकारी दी.  अंत में महासंम्मेलन का आभार महाराष्ट्र राज्य पुरानी पेंशन संगठन के जिला महासचिव निलेश कुमरे ने माना.  

    महासंम्मेलन में रही प्रमुख मांगे

    शासन सेवा में 1 नवम्बर 2005 व उसके पश्चात नियुक्त सभी कर्मचारीयेां को पुरानी पेंशन योजना के सभी लाभ पुर्ववत लागू करे. 1 नवम्बर 2005 व उसके पश्चात नियुक्त हुए मृत व सेवानिवृत्त कर्मचारीयों को परिवार निवृत्ती वेतन व मृत्यु तथा सेवा उपदान का लाभ तत्काल दिए जाने की मांग की गई.