बुनियादी सुविधा हेतु अधिक सहायता की आवश्यकता, बाढग्रस्त केंद्रीय टिम समक्ष मांग

चंद्रपुर. केंद्रीय टिम ने बम्हपुरी तहसील में बाढग्रस्त क्षेत्र का मुआयना किया. बाढ के पश्चात शासन की ओर से पंचनामा पूर्ण किए गए. अबतक सरकार की ओर से 42 करोड की सहायता दी गई. परंतु उसके बाद भी बुनियादी सुविधाओं के कई बडे कार्य अधुरे रहने से और अधिक सहायता की आवश्यकता होने की मांग बाढग्रस्त परिसर के नागरीकों ने केंद्रीय टिम समक्ष की. मुआयने के पश्चात यह टिम केंद्र के पास ब्यौरा पेश करेगी.

ब्रम्हपुरी तहसील में राज्य सरकार द्वारा किए गए पंचनामे, उसके पश्चात की गई सहायता, बुनियादी सुविधाओं में हुवा नुकसान, उसमे की गई दुरूस्ती और अधिक लगनेवाली सहायता आदि के संदर्भ में शुक्रवार को केंद्रीय टम ने बाढग्रस्त क्षेत्र का मुआयना किया. 

टिम में पथक प्रमुख राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सह सचिव रमेश कुमार गंटा, केंद्र शासन के ग्राम विकास विभाग के उपसचिव यश पाल, केंद्रीय वित्त मंत्रालय के आर.बी.कौल, कृषि विभाग नागपुर के संचालक आर.पी. सिंग, सडक यातायात व महामार्ग मंत्रालय के मुख्य अभियंता तुषार व्यास, जलशक्ति नागपुर के अधिक्षक अभीयंता महेंद्र सहारे समेत विभागीय आयुक्त डा. संजीव कुमार,  जिलाधीश अजय गुल्हाने, जि.प. सीईओ राहुल कर्डीले, नागपुर सीईओ योगेश  कुंभेजकर, उपविभागीय अधिकारी क्रांती डोंबे, जिला अधीक्षक कृषी अधिकारी डा. उदय पाटील, उपवनसंरक्षक दीपेश मल्होत्रा व विविध विभाग के प्रमुख सहभागी उपस्थित थे. 

पिंपलगाव, बेलगांव बाढग्रस्त क्षेत्र का मुआयना 

चंद्रपुर जिले के कृषि, बुनियादी सुविधा, सडक व पूल आदि के नुकसान का जायजा लेने टिम ने लाडज, पिंपलगांव, बेलगांव के बाढ ग्रस्त क्षेत्र पहुची व मुआयने के पश्चात किसानों तथा गांववासियों से संवाद साधा. तथा सडकों में बीच_बीच रूककर किसानों से संवाद साधा. 

बोट से सफर कर लाडज पहुचे  

बोट से सफर करते हुए टिम लाडज में नुकसान ग्रस्त परिसर पहुची जहां उन्होने खेत व मकानों का मुआयना किया. इस समय ग्रामीणों ने गीरे हुए मकानों के लिए सहायता की मांग की. केंद्रीय टिम के अधिकारीयो ने  स्थानीय तलाठी से इस संदर्भ में पुछताछ की. अतिक्रमणधारक, पंजीयन नही किए बाढग्रस्त, बैंक में स्वयं का खाता नही होनेवाले बाढग्रस्त व सूची में नाम नही होनेवाले नागरीकों के नाम दर्ज करने के निर्देश दिए.  

टिम समक्ष ग्रामीणों की गुहार  

केंद्रीय टिम समक्ष कईयों ने अपनी_अपनी मांगे पेश की. उनकी मांगो का दर्ज किया गया. पंचनामा के मुताबिक नुकसान मुआवजा की शिकायत होने पर उसकी जांच किए जाने की जानकारी जिलाधीश गुल्हाने दी. सहायता का वितरण, पंचनामा आदि का मुआयना करने यह टिम आने की जानकारी जिलाधीश ने दी.  

36 करोड जिले के किसानों में वितरित 

30 व 31 अगस्त व 1 सितम्बर के दौरान वैनगंगा नदी को बाढ आने से गोसेखुर्द के 33 दरवाजे खोले गए. इससे निर्माण हुई बाढ स्थिति से ब्रम्हपुरी, मूल, सावली, गोंडपिंपरी, सिंदेवाही आदि 5 तहसील में करोडों का नुकसान हुवा. इसके लिए तत्काल पंचनामा कर राज्य सरकार ने अबतक 42 करोड रूपए की सहायता मंजुर की. उनमें से 36 करोड चंद्रपुर जिले के किसानों का वितरित किए गए. शेष 6 करोड रूपए जल्द ही किए जायेंगे.