अब खाकी लेगी आदिवासी गांवों को गोद, आदिवासी गांवों में पहुंचेगी विकास की गंगा

    • पुलिस दत्तक गांव योजना पर अमल शुरू 

    गड़चिरोली. एक जमाने में गड़चिरोली यह जिला नक्सलियों का गढ़ माना जाता था. लेकिन जिले को लगा यह दाग यह धीरे-धीरे मिटता नजर आ रहा है. पिछले दो वर्ष का इतिहास देखे तो पुलिस महकमे ने जिले में नक्सल आंदोलन की कमर तोड़ कर रख दी है. इतना ही नहीं पुलिस दादालोरा खिड़की यह योजना आदिवासी गांवों में योजना पहुंचाने, सुशिक्षित बेरोजगारों को रोजगार और स्वयं रोजगार उपलब्ध करा देने में काफी कारगर साबित हुई है. ऐसे में अब जिला पुलिस अधीक्षक अंकित गोयल की संकल्पना से पुलिस दादालोरा खिड़की के तर्ज पर ही पुलिस दत्तक गांव योजना अमल में लायी गयी है.   योजना के तहत अब हरेक पुलिस थाना एक आदिवासी गांव को गोद लेगा. वहीं संबंधित गांव में बुनियादी सुविाधाएं पहुंचाने समेत ग्रामीणों की समस्या हल करने को प्राथमिकता दी जाएगी. पुलिस विभाग के इस अनोखी पहल से निश्चित रूप से आदिवासी गांवों का कायाकल्प होगा. 

    50 थाने लेंगे 50 गांवों को गोद

    वर्तमान स्थिति में जिले के विभिन्न 50 पुलिस थाना व पुलिस सहायता केंद्रों में पुलिस दादालोरा खिड़की योजना चलाई जा रही है. अब संबंधित 50 थानों में पुलिस दत्तक गांव योजना चलाई जा रही है. प्रत्येक पुलिस थाना अपने थाना क्षेत्र के एक गांव को गोद लेगा. वहीं संबंधित गांवों में सरकार की योजना पहुंचाने के साथ ही गांवों में विकासकार्य को प्राथमिकता देने की जिम्मेदारी संबंधित पुलिस थाने के अधिकारी व कर्मचारी उठाएंगे. विशेषत: गोद लिए हुए गांवों में पुलिस अधिकारी व कर्मचारी बैठकों का आयोजन कर ग्रामीणों की समस्या हल करने का प्रयास करेंगे.

    दादालोरा खिड़की बनी कारगर

     पुलिस अधीक्षक अंकित गोयल की संकल्पना से जिले के विभिन्न पुलिस थानों में पुलिस दादालोरा खिड़की योजना चलाई जा रही है. योजना के माध्यम से जिले के हजारों सुशिक्षित युवक-युवतियों को रोजगार व स्वयं रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है. इसके अलावा बाहर राज्य अथवा जिले में नौकरी करने का मौका भी उपलब्ध कराया जा रहा है. इस योजना के माध्यम से अब तक हजारों युवाओं को रोजगार प्राप्त हुआ है. विशेषत: आदिवासी गांवों के नागरिकों को उनके गांव में ही सरकारी योजनाओं लाभ दिया जा रहा है. पुलिस विभाग की दादालोरा खिड़की यह योजना दुर्गम क्षेत्र के लोगों का विकास करने में काफी कारगर साबित होने की बात कही जा रही है.

    100 फीसदी लोगों तक पहुंचाएंगे योजना : SP गोयल

    जिला पुलिस अधीक्षक अंकित गोयल ने बताया कि, पुलिस दादालोरा खिड़की योजना के माध्यम से दुर्गम और अतिदुर्गम क्षेत्र के लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाया जा रहा है. दादालोरा खिड़की योजना में विभिन्न क्षेत्र के लोग आते थे. लेकिन पुलिस दत्तक गांव योजना जो कि, दादालोरा खिड़की योजना का हिस्सा है.

    इस योजना के तहत दादालोरा खिड़की के जरिये एक गांव गोद लिया जाएगा. और उस गांव में बुनियादी सुविधाएं पहुंचाने के साथ लोगों के स्वास्थ्य स्वस्थ्य रखने के लिए स्वच्छता अभियान समेत विभिन्न तरह के उपाययोजनाएं किए जाएंगे. साथ ही 100 फीसदी लोगों तक 100 फीसदी योजना पहुंचाने का संकल्प है.