REC ties up with Taj Sats to provide food to medical personnel

गडचिरोली. स्थानीय महिला अस्पताल में 3 वर्षो से कार्यरत रोजंदारी 29 कर्मचारियों को अचानक कार्य पर से हटाकर नए कामकारों की नियुक्ती करने से पुराने कामगारों पर भुखमरी की नौबत आयी है. इन अन्यायग्रस्त कामगारों को पूर्ववत कार्य पर नियुक्ती दे, यह मांग करते हुए सोमवार 21 दिसंबर को अन्यायग्रस्त कामगारों ने पूर्व विधायक तथा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष डा. नामदेव उसेंडी इनके नेतृत्व में जिला शल्य चिकित्सक डा. अनिल रूडे का घेराव कर न्याय देने की मांग की. 

स्थानीय महिला व बाल अस्पताल निर्माण होकर 2 वर्ष का कालावधि बिता है. इस कालावधि में 29 पदों के भर्ती को प्रशासन द्वारा विलंब होने से महिला व बाल अस्पताल के अधिक्षक ने अस्पताल का कामकाज सुचारू रूप से चलाने के लिए रोजंदारी तत्व पर पात्रता पूर्ण होनेवाले उम्मीदवारों को नियुक्त किया. 2 वर्षो के कालावधि में उक्त कामगारों को अस्पताल के कार्यो का उचित अनुभव आया होकर इसी कालावधि में अस्पताल में स्वच्छता को लेकर पुरस्कार भी मिला है.

बिते 2 वर्षो में उक्त कामगारों ने अल्प मानधन में भी कार्य कर कोरोना कालावधि में भी उचित सेवा दी. ऐसा होने के बावजूद जिला अस्पताल के जिला शल्यचिकित्सक डा. अनिल रूडे तथा अॅक्युरस सर्व्हीसेस इंडिया प्रा. लि. औरंगाबाद इस कंपनी ने दुसरे अनुभवहीन 29 कामगारों की नियुक्ती की. उक्त ठेका पद्धती से पदभर्ती प्रक्रिया चलाते समय जिले के पात्रताधारक बेरोजगार उम्मीदवारों का आवेदन मंगाकर साक्षात्कार साक्षात्कार लेना आवश्यक थ्ज्ञा. मात्र बिते 2 वर्षो से व्यापक कम मानधन पर कार्य करनेवाले पुराने कामगारों को प्राधान्य देना आवश्यक था.

मात्र जिला शल्य चिकित्सक ने सिधे कंपनी से मिलीभगत कर 18 दिसंबर 2020 को अनुभवहीन उम्मीदवार को स्वयं महिला व बाल अस्पताल में ले जाने का आरोप पूर्व विधायक डा. उसेंडी व अन्यायग्रस्त कामगारों ने किया है. अचानक रूप से बिते 2 वर्षो से कार्य करनेवाले 29 कामगारों को कार्य पर से हटाने से कामगारों पर भुखमरी की नौबत आयी है. इस अन्यायग्रस्त कर्मचरियों ने सोमवार को पूर्व विधायक डा. उसेंडी के नेतृत्व में जिलाधिकारी को ज्ञापन पेश कर जिला शल्य चिकित्सक का घेराव किया. व पूर्ववत कार्य पर नियुक्ती देकर न्याय देने की मांग की. 

पालकमंत्री शिंदे से की शिकायत

पूर्व विधायक डा. नामदेव उसेंडी ने अन्यायग्रस्त कामगारों के समस्या जिला दौरे पर आए पालकमंत्री एकनाथ शिंदे को अवगत कराई. जिससे उन्होने जिला शल्य चिकित्सक डा. अनिल रूडे को फटकार लगाते हुए अन्यायग्रस्त कामगारों को तत्काल तत्काल न्याय देने की सुचना की. इस मामले की उचित जांच कर जिला शल्य चिकित्सक को तत्काल निलंबित करने की मांग पूर्व विधायक डा. उसेंडी ने की है. इस समय एजाज शेख, नंदू वाईलकर, रजनीकांत मोटघरे, जुबेर पठाण, प्रितम गोहणे, योगेश गोहणे, विशाल डोमळे, सिद्धार्थ बाबनवाडे, समीर पदा, मुकूंदा कुंभारे व अन्यायग्रस्त कर्मचारी उपस्थित थे.