नियमित कर्ज भुगतान करने वाले 45 किसान फसल कर्ज से वंचित

    अर्जुनी मोरगांव. निर्धारित अवधि के अंदर नियमित ब्याज सहित कर्ज का भुगतान करने के बाद भी 45 किसानों को कर्ज नहीं दिया गया.   यह मामला पिंपलगांव खांबी स्थित विविध कार्यकारी संस्था का है. इसके लिए संस्था के सचिव एस.के.सिडाम की लापरवाही को जिम्मेदार माना जा रहा है.

    इसकी शिकायत किसानों ने संबंधित विभाग के अधिकारी व पदाधिकारियों से की है. बताया जा रहा है कि संस्था के सभासद किसानों ने अपने नियमित फसल कर्ज ब्याज सहित मार्च माह में संस्था के पास जमा कर दिए थे. इसके बाद अप्रेल माह के प्रथम सप्ताह में नए फसल कर्ज के लिए लगने वाले सभी कागज पत्र संस्था के गट सचिव एस.के.सिडाम के पास जमा किया .

    लेकिन 4 माह की अवधि बीत जाने के बावजूद 45 किसानों को फसल कर्ज नहीं मिला है और इसके लिए  गटसचिव की लापरवाही  को जिम्मेदार माना जा रहा है.  इससे उन किसानों को खेती के काम करते समय आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है. इस संस्था में 15 अगस्त तक 82 किसानों को कर्ज की पूर्ति की गई. वहीं शेष 45 किसानों के कर्ज प्रकरण मंजूर किए गए थे.

    इसमें शेष किसानों को कर्ज मिले इसके लिए संस्था के अध्यक्ष ने गोंदिया जिला सेंट्रल को ऑपरेटिव बैंक की शाखा ने 15 लाख 38 हजार 100 रु. का धनादेश प्रदान करने की जानकारी अध्यक्ष विनोद बिसेन ने दी.इस संबंध में संस्था अध्यक्ष व किसान यह बैंक की शाखा में कर्ज लेने के लिए गए. जहां उन्हें बताया गया कि गट सचिव ने कोई भी दस्तावेज व कॅशबुक बैंक में प्रस्तुत नहीं की है. जिससे कर्ज नहीं दिया जा सकता है. इस संबंध के दस्तावेज, कॅशबुक आदि लेकर गट सचिव गायब हो गए हैं.