MUMBAI-SEA-LINK
Pic : Faisal Patel @mfaisalpatel

    Loading

    नई दिल्ली/मुंबई. आने वाले दो सालों में नरिमन पॉइंट(Nariman Point) से कोलाबा कफ परेड तक का सफर बेहद आसान होने वाला है। जी हाँ, दक्षिण मुंबई(Mumbai) के इस इलाके में 1.6 किमी. लंबा ब्रिज बनाने की प्रक्रिया अब आरंभ कर दी गई है। इस बाबत पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे(Aditya Thackeray) के इस बेहतरीन ड्रीम प्रॉजेक्ट को साल 2024 तक पूरा करने के लिए मुंबई महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण(MMRDA) ने टेंडर जारी कर दिया है। जिसे आने वाले 2 साल में ब्रिज का सिविल वर्क के साथ पूरा कर लिया जाएगा।

    गौरतलब है कि नरिमन पॉइंट से कफ परेड की दूरी कम करने के लिए समुद्र पर 1.6 किमी. लंबा ब्रिज निर्माण होने वाला है। इस समुद्र से होकर गुजरनेवाले इस 1.6 किमी. लंबे और ख़ास ब्रिज पर कुल 4 लेन रहेंगे। इसमें 2 लेन नरिमन पॉइंट और 2 लेन कोलाबा की तरफ जाने वाले वाहनों के लिए बनाए जाएंगे। इस ब्रिज के निर्माण पर करीब 284 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

    ट्रैफिक से होगी राहत, चलना होगा सुलभ

    बता दें कि इस ब्रिज के बन जाने से साउथ मुंबई में ट्रैफिक से काफी राहत मिलेगी। वहीं बांद्रा-वर्ली सी लिंक से आने वाले वाहन वर्ली के पास बन रहे नए ब्रिज से केवल चंद मिनट में ही कोलाबा तक पहुंच जाएंगे। फिलहाल यह दूरी तय करने में लोगों को करीब 20 से 30 मिनट का समय लगता है।

    मई से शुरू होगा कंस्ट्रक्शन 

    तो दोस्तों, मुंबई के समुद्र पर बनने वाले इस तीसरे ब्रिज का निर्माण कार्य आगामी मई से आरंभ होगा। इसके लिए MMRDA ने ठेकेदार कंपनी के चयन प्रक्रिया आरंभ कर दी है। वहीं आगामी 7 अप्रैल तक ठेकेदार का चयन भी हो जाएगा। ब्रिज निर्माण के साथ ही ठेकेदार कंपनी को 10 वर्ष तक ब्रिज की मरम्मत का भी जरुरी जिम्मा संभालना होगा। बता दें कि MMRDA ने वर्ष 2022-23 के बजट में ब्रिज निर्माण के लिए 200 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। वहीं साल 2010 में ही बांद्रा से वर्ली के बीच 5.6 किमी. लंबा सी लिंक तैयार हो चुका था। फिलहाल बांद्रा से वर्सोवा के बीच 17.7 किमी. लंबे सी लिंक का निर्माण कार्य अभी जोर शोरों से चालु है।