रिक्शा-टैक्सी चालकों को मिलेगी राहत, चुनाव के पहले आम लोगों को साधने की कोशिश

    मुंबई: बढ़ती ईंधन की कीमतों और मुद्रास्फीति के बीच रिक्शा-टैक्सी चालकों (Rickshaw-Taxi Drivers) और आम नागरिकों के लिए अच्छी खबर है। महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) के बजट (Budget ) में वित्त मंत्री अजित पवार (Ajit Pawar)  ने सीएनजी-पीएनजी (CNG-PNG) पर वैट (VAT) घटाने का एलान कर आम मध्यम वर्ग को राहत देने का प्रयास किया है। 

    नेचुरल गैस पर लगने वाले वैट को 13.5 प्रतिशत से घटाकर  3 प्रतिशत करने का प्रस्ताव किया गया है। आगामी महानगरपालिका चुनावों (Municipal Elections) को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा लिए गए इस निर्णय का फायदा मुंबई सहित अन्य शहरों के लाखों रिक्शा-टैक्सी चालकों के अलावा पाइपलाइन रसोई गैस धारकों को होगा।

    10 प्रतिशत घटेगी सीएनजी-पीएनजी की कीमतें  

    वैट घटाने के इस निर्णय से सीएनजी-पीएनजी की कीमतें की कीमतें 10 प्रतिशत तक घट जाएंगी। इसका सीधा लाभ आम रिक्शा टैक्सी चालकों को ज्यादा होगा। इस निर्णय से राज्य सरकार के राजस्व में लगभग 800 करोड़ रुपए की कमी आएगी, हालांकि आम जनता को इसका काफी फायदा होने वाला है। पर्यावरण के अनुकूल प्राकृतिक गैस का उपयोग सबसे ज्यादा शहरों में रिक्शा-टैक्सी चालक करते हैं, इसके अलावा मुंबई और आसपास के शहरों में घरेलू स्तर पर पीएनजी का उपयोग हो रहा है। अब वैट में प्रस्तावित कटौती से आम आदमी और मध्यम वर्ग को सीधा फायदा होगा।

    रिक्शा-टैक्सी यूनियन ने किया स्वागत

    सीएनजी पर वैट घटाने के राज्य सरकार के निर्णय का स्वागत किया गया है। मुंबई मेंस टैक्सी यूनियन के नेता ए.एल.क्वाड्रोस के अनुसार यह काफी राहत भरा कदम है। संघर्ष रिक्शा यूनियन के प्रमुख सलाहकार और बजाज ऑटो के डीलर सुरेंद्र उपाध्याय ने कहा कि राज्य के उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री ने लाखों गरीब रिक्शा टैक्सी चालकों को बड़ी राहत देने का काम किया है। सुरेंद्र उपाध्याय ने कहा कि सरकार ई-वाहनों को भी बढ़ावा दे रही है। 

    महंगाई से कुछ राहत मिलेगी

    संघर्ष रिक्शा यूनियन के उपाध्यक्ष संतोष तिवारी ने कहा कि कोरोनाकाल में आम रिक्शा टैक्सी चालकों को मुसीबतों का सामना करना पड़ा। राज्य सरकार के इस निर्णय से महंगाई से कुछ राहत मिलेगी।