CBSE 10th and 12th class second phase board exam date announced, exam will start from April 26
Representative Exams

    नागपुर. राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय द्वारा ली जा रही ग्रीष्म सत्र परीक्षा में हर दिन गड़बड़ी सामने आ रही है. इसके बावजूद उपकुलपति न तो कॉलेजों के खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं और न ही परीक्षाओं की मॉनिटरिंग की जा रही है. यही वजह है कि पेपर शुरू होने से पहले ही छात्रों को प्रश्नों के बारे में जानकारी मिल रही है. शुक्रवार को एक इंजीनियरिंग कॉलेज में 6 विषयों के पेपर लीक हो गये. इस घटना के बाद विवि प्रशासन में भी हड़कंप मच गया. साथ ही कॉलेजों द्वारा ली जा रही परीक्षा की विश्वसनीयता पर भी सवाल खड़े हो गये हैं.

    दरअसल पेपर शुरू होने से पहले ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. विवि को जानकारी मिलते ही अधिकारी तुरंत पहुंचे. 9.30 बजे होने वाला पेपर रद्द कर दोपहर 12.30 बजे लिया गया लेकिन इस पूरे मामले में विवि की ओर से अधिकृत रूप से जानकारी नहीं दी गई. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को अभियांत्रिकी के विविध विषयों की परीक्षा थी. प्रियदर्शिनी अभियांत्रिकी महाविद्यालय में 10 विषयों की परीक्षा सुबह 9.30 बजे से होनी थी लेकिन सुबह 9 बजे ही पेपर लीक होने के साथ वायरल हो गया. परीक्षा व मूल्यमापन संचालक प्रफुल्ल साबले महाविद्यालय पहुंचे और सभी 6 विषयों की परीक्षा को रद्द किया.

    दिया गया दूसरा पेपर सेट

    बताया गया कि पेपर लीक होने की जानकारी मिलते ही विवि द्वारा प्राचार्य से फोन पर पूछताछ की गई. इस बीच विवि के कंट्रोल रूम से भी जानकारी ली जाती रही. वायरल सभी पेपर की जांच की गई. इसके बाद ही परीक्षा को टाल दिया गया. बताया गया कि कुछ कमरों में छात्रों को पेपर भी बांट दिया गया था. बाद में उनसे वापस लिया गया. अचानक बदले घटनाक्रम की वजह से छात्र भी परेशान हो गये. तुरंत दूसरा पेपर सेट अपलोड किया गया. कर्मचारियों ने नये पेपर के झेराक्स निकाले. 12.30 बजे से परीक्षा शुरू की गई.

    मामला बेहद गंभीर

    इंजीनियरिंग जैसे पाठ्यक्रम में एक ही दिन एक ही कॉलेज में 6 पेपर लीक होने की घटना बेहद गंभीर है. होम सेंटर पर पेपर निकालते ही वायरल हो जाना, किसी कर्मचारी का ही हाथ लगता है. जो पेपर लीक हुए थे उनमें  मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, कम्प्यूटर साइंन्स, इर्न्फोमेशन टेक्नोलॉजी, इलेक्ट्रिकल आदि विषयों का समावेश रहा. अब विवि प्रशासन द्वारा उक्त कॉलेज को नोटिस जारी किया जाएगा.