Subhash School Campus, Filthiness, Gondia
File Photo

    नागपुर. सिटी में बारिश के जमा साफ पानी और गंदगी के कारण डेंगू और मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों की फौज पैदा हो रही है लेकिन मनपा कई बस्तियों में अब तक फागिंग तक नहीं कर रही है. शहर के भीतर और सटी हुई बस्तियों में खाली प्लॉट मच्छरों की पैदाइश की जगह बन गये हैं. बारिश का पानी इन खुले प्लॉटों में जमा हो रहा है. घास व झाड़ियों से युक्त साफ प्लॉट में पानी गंदा भी नहीं होता और इसमें डेंगू के मच्छर पैदा हो रहे हैं.

    वहीं जिन प्लॉटों में नागरिकों ने कचरा व गंदगी डाल रखा है ऐसी जगहों पर मच्छर और मक्खियों की फौज पैदा हो रही है जो मलेरिया फैलाने का काम कर रही है. पश्चिम नागपुर में झिंगाबाई टाकली निवारा हाउसिंग सोसाइटी के आसपास कई खाली प्लॉट्स हैं जिनमें गंदगी तो है ही, खरपतवार उग आए हैं. ये मच्छर की पैदाइश का अड्डा बन गए हैं. मनपा द्वारा खाली प्लॉटों की सफाई का काम नहीं किया गया है और न ही फवारणी की गई है जिससे आसपास के नागरिकों को डेंगू और मलेरिया का खतरा पैदा हो गया है. 

    अनेक हो गए डेंगूग्रस्त

    निवारा हाउसिंग सोसाइटी के आसपास रहने वाले अनेक नागरिक और बच्चे डेंगू से पीड़ित हो गए हैं. अनेक का उपचार निजी अस्पतालों में चल रहा है. इस सोसाइटी के आसपास अभी भी बड़ी संख्या में खाली प्लॉट हैं. कुछ में तो सुअरों के झुंड ने कब्जा जमा रखा है जो कीचड़ और गंदगी करते रहते हैं. नागरिकों का कहना है कि पूरे परिसर में अब तक किसी तरह की फवारणी और फागिंग नहीं हुई है. नगर प्रशासन के अधिकारियों और प्रतिनिधियों का ध्यान नहीं है और नागरिकों को दिक्कतें हो रही हैं.

    शिकायत करने पर भी सुनवाई नहीं

    सोसाइटी के नागरिकों ने बताया कि कुछ दिन पूर्व मनपा को आसपास के खाली प्लॉट में जमा होने वाले बारिश के पानी, गंदगी व झाड़ियों की सफाई करवाने के लिए ऑनलाइन शिकायत की थी लेकिन न कोई जवाब आया और न ही शिकायत का निवारण किया गया. इस क्षेत्र की नगरसेविका संगीता गिर्हे हैं. नागरिकों की शिकायत है कि वे भी परिसर की समस्याओं की ओर बिल्कुल ध्यान नहीं दे रही हैं.

    इस तरह की शिकायतें पूरे शहर में कई बस्तियों से आ रही हैं. अब तक सिटी में 800 से भी अधिक डेंगू के मरीज सरकारी अस्पतालों में मिल चुके हैं. निजी अस्पतालों का तो आंकड़ा ही नहीं है. कोरोना के बाद अब डेंगू महामारी की तरह पैर पसार रहा है. इलाज में लोगों की जेबें खाली हो रही हैं लेकिन मनपा का स्वास्थ्य विभाग उपाययोजना करने की बजाय कुंभकर्णी नींद में है.