Unlock 2.0 Hotel and restaurant will open from July 8, Maharashtra government has issued rules
Representational Pic

    • कई लोग करेंगे इंतजार
    • महंगाई का एक और तड़का

    नागपुर. होटल, रेस्टोरेंट में खाने वाले को अब निराश होना पड़ेगा, क्योंकि उन्हें जल्द ही ज्यादा जेब ढीली करनी होगी. शहर के कई रेस्टोरेंट संचालक कीमत बढ़ाने जा रहे हैं. वहीं कई ऐसे भी हैं, जो तत्काल मूल्य वृद्धि के पक्ष में नहीं है. हालांकि कई संचालक ऐसे भी हैं, जो कीमतों में इजाफा कर चुके हैं क्योंकि खाने-पीने की चीजें काफी महंगी हो गई है. नागपुर में हजारों की संख्या में रेस्टोरेंट, होटल और बार संचालित हो रहे हैं. संगठन के रूप में यहां पर किसी बात को लेकर निर्णय नहीं होता है लेकिन महंगाई ने अधिकांश संचालकों को कीमत बढ़ाने पर मजबूर कर दिया है. कइयों ने कीमत में वृद्धि कर दी है. यह वृद्धि 10 से 15 फीसदी तक की गई है ताकि होटल भी चलता रहे और ग्राहकों की जेब पर ज्यादा असर न पड़े. वहीं कई ऐसे हैं जो नया मेनू कार्ड प्रिंट होने के लिए भेज चुके हैं. कुछ संचालक ऐसे भी हैं जो अभी इंतजार करना बेहतर समझ रहे हैं. उनका कहना है कि कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी की गई है. संभव है खाने-पीने की चीजें आने वाले दिनों में सस्ती हो.

    नया मेनू कार्ड प्रिंट में

    बढ़ती महंगाई के कारण हमने कीमतों में 10 फीसदी मूल्य बढ़ाने के लिए बाध्य कर दिया है. नया मेनू कार्ड प्रिंट को गया है. आने वाले दो-तीन दिनों में नई कीमत पर खाने-पीने की चीजें मिलेंगी. कई अन्य संचालकों ने भी दरें बढ़ाने की तैयारी कर ली है. अगले हफ्ते से लोगों को खाने पर 10 फीसदी ज्यादा खर्च करना होगा.

    -मनदीप सिंह, सांझा चूल्हा

    होटल वाले कर रहे इंतजार

    आवासीय होटल वाले अभी कीमत बढ़ाने पर विचार नहीं कर रहे हैं, दबाव जरूर है. इस पर 2-3 दिनों में चर्चा होगी. हर कुछ महंगा होने से लाभ पर असर हो रहा है. जब तक हम टाल सकते हैं तब तक टाल रहे हैं परंतु महंगाई ऐसी ही बनी रही, तो संचालकों को निश्चित रूप से कीमत बढ़ाने पर मजबूर होना पड़ेगा.

    -तेजिंदर सिंह रेणु

    सहन करना हो रहा मुश्किल

    रेस्टोरेंट संचालक, सावजी दूकानदारों ने 15 दिन पूर्व ही कीमतों में वृद्धि कर दी है. वेज और नॉन वेज आइटम पहले से 20-30 फीसदी ज्यादा कीमतों में बेचे जा रहे हैं. इनका कहना है कि दाल, चावल, मसाला, तेल से लेकर नॉन वेज आइटम में काफी दर वृद्धि हुई है. यही कारण है कि पहले जो आइटम 270 में मिलता था उसे अब 300 रुपये में बेचा जा रहा है. समोसा, इडली, सांबर वड़ा बेचने वालों ने भी कीमतों में इजाफा कर दिया है. अब समोसा कहीं 30 तो कहीं 35 रुपये प्लेट पहुंच गया है. दोसा 100 से 150 रुपये, इडली 40-50 रुपये प्लेट पहुंच चुका है. सब कृपा महंगाई की है.

    मुंबई में 30% दर बढ़ाने का निर्णय

    इस बीच मुंबई के महाराष्ट्र रेस्टोरेंट मालक संघ (आहार) ने खाने की चीजों के दाम 30 फीसदी तक बढ़ाने का निर्णय लिया है. नई दरें जल्द लागू होंगी. संगठन का कहना है कि अब लजीज व्यंजन के लिए ग्राहकों को जेब ढीली करनी होगी. उनका कहना है कि उत्पाद के दाम इतने बढ़ गए हैं कि संचालकों को मजबूर होकर निर्णय लेना पड़ रहा है. सब्जी से लेकर तेल, अनाज, किराना सभी सामानों के दामों में बेतहासा वृद्धि हुई है. कोरोना काल में भी रेस्टोरेंट मालकों को भारी नुकसान सहना पड़ा है. सारी बातों को देखते हुए निर्णय लिया गया है.