Lockers
Representational Pic

    • शनिवार को ही खाली हो गया था 90 फीसदी लॉकर
    • फिर भी दहशत अब भी कायम

    नागपुर. सिटी पुलिस ने धमाकेदार अंदाज में इतवारी के भूतड़ा चेंबर स्थित लॉकर सेंटर पर कार्रवाई की जिसके बाद व्यापारियों में खलबली मंच गई. खासकर अनाज, तेल बाजार वाले सकते में आ गए थे. किन्तु दूसरे दिन ही यानी शनिवार को अधिकांश व्यापारियों को लॉकर खोलने और माल निकालने की अनुमति मिल गई जिसके कारण पूरा का पूरा मामला लटक गया. आयकर विभाग और ईडी वालों को भी इसमें कुछ मिलने की संभावना नहीं है. वे औपचारिकताएं पूरी कर रहे हैं. किसी बड़े हवाला कारोबारी के अब तक पता चलने की उम्मीद नहीं है. 

    FIR में किसी का नाम नहीं 

    जिस प्रकार कार्रवाई की गई और मामले को हाईप्रोफाइल बनाया गया उससे लगा था कि कई नामचीन लोगों के नाम सामने आएंगे लेकिन एफआईआर में किसी का नाम नहीं होने से सभी के सभी राहत महसूस कर रहे हैं. गलत काम करने वाले भी बिंदास को गए हैं. कार्रवाई के दौरान ही पता चल गया था कि अधिकांश लॉकरों में कारोबारी रकम ज्यादा रखी हुई है जिसका हिसाब सभी के पास है. यही कारण है कि शनिवार को ही अधिकांश कारोबारियों को राशि निकालने की अनुमति दे दी गई थी. अनुमति कैसे मिली और किसने दी यह पता नहीं लेकिन शनिवार को सुबह से शाम तक लोग लाइन में लगकर लॉकर खोलते रहे और सामान, रकम निकालते रहे.

    कुछ मिलना मुश्किल

    आईटी विभाग के सूत्रों का कहना है कि पुलिस ने मामले को हाईप्रोफाइल बनाने की पूरी कोशिश की लेकिन इन लॉकरों से कुछ मिलना मुश्किल है. मामले पहले ही रफादफा कर दिए गए थे और उसके बाद विभाग को सूचित किया गया था. जब तक आईटी अधिकारी पहुंचे सब कुछ ‘शांत’ हो गया था. इसलिए विभागीय अधिकारी भी इस मुद्दे पर गंभीर नहीं हैं. 

    सभी को ‘चोर’ समझ रही पुलिस

    इस बीच कई व्यापारिक संगठनों के प्रमुखों ने इस कार्रवाई को लेकर चिंता प्रकट की है. व्यापारिक संगठनों का कहना है कि इस प्रकार एक लाइसेंसी लॉकर सेंटर में पुलिस छापेमारी नहीं कर सकती है. इतना ही नहीं लॉकर खुलवाने के लिए दबाव भी नहीं डाल सकती है. पुलिस की कार्यप्रणाली से ऐेसा लग रहा कि सभी व्यापारी ‘चोर’ हैं. आयकर विभाग जब छापेमारी करता है तो नोटिस देता है और संबंधित लॉकर पर ही हाथ डालता है. सभी के सभी लॉकरों में वह हाथ नहीं डालता.

    भरत सेल्फ 3 दिनों से बंद

    इतवारी सराफा बाजार स्थित भरत सेल्फ डिपॉजिट वाल्ट को भी पुलिस पिछले 3 दिनों से बंद किए हुए थी. इसे लेकर सराफा कारोबारियों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था. केंद्र में 2000 लॉकर है जिनमें सराफा कारोबारी अपना सामान रखते हैं. उनका कहना था कि जब भूतड़ा चेंबर को दूसरे दिन खोल दिया गया तो भरत सेल्फ को बंद रखने का औचित्य क्या था. इस संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों से कई बार विनती भी की गई लेकिन वाल्ट नहीं खोला जा रहा था. जानकारों ने बताया कि व्यापारियों को इससे खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा. अंतत: सोमवार को देर शाम पुलिस आयुक्त ने सेल्फ खोलने की अनुमति दी जिसके बाद सराफा कारोबारियों ने राहत की सांस ली.