fraud
Representative Photo

    नागपुर. साइबर ठगों ने बड़े ही शातिर तरीके से एक वृद्ध को अपने जाल में फंसाया. पहले पॉलिसी के नाम पर उनसे 50 हजार रुपये लिए गए और फोन बंद कर दिया. बाद में उनके साथ हुई ठगी में 35 लाख रुपये का क्लेम दिलवाने के नाम पर 9.37 लाख रुपये का चूना लगा दिया. धंतोली पुलिस ने नीलगगन अपार्टमेंट, बलराज मार्ग निवासी विलास नारायणराव बेलगमवार (68) की शिकायत पर मामला दर्ज किया है.

    आरोपियों में बजाज फाइनेन्स कंपनी के गायकवाड़, सेबी की रिया शर्मा, राजू सिंह, अशोक अग्रवाल, अधि. रघुवीर सिंह, दयाशंकर वर्मा और राजेश त्रिपाठी का समावेश है. 9 सितंबर 2020 को विलास के मोबाइल पर एक महिला ने कॉल किया. उन्हें बताया कि बजाज फाइनेन्स की तरफ से उन्हें शून्य ब्याजदर पर 10 लाख रुपये का लोन मंजूर किया जा रहा है. कर्ज लेने के लिए उन्हें पहले कंपनी से 10 लाख रुपये की बीमा पॉलिसी निकालनी होगी. विलास ने महिला द्वारा बताए गए खाते में 50,000 रुपये जमा करवा दिए.

    महिला के नंबर पर कॉल करने पर फोन बंद हो गया. लगातार फोन बंद ही था कुछ समय बाद उन्हें राजू सिंह ने कॉल करके बताया कि वह सेबी का अधिकारी है. कंपनी द्वारा बीमा पॉलिसी के नाम पर ठगे जाने की जानकारी उसे मिली है. उसने कंपनी पर केस करके 70 लाख रुपये का क्लेम दिलाने का झांसा दिया लेकिन 50 प्रश कमिशन वह खुद रखने वाला था.

    विलास ने उसपर विश्वास कर लिया. आरोपी ने विभिन्न शुल्कों के नाम पर विलास से खाते में रकम जमा करवाई. इसके बाद अलग-अलग आरोपी फोन करते रहे और विलास रकम जमा करवाते गए. 9.37 लाख रुपये देने के बावजूद उन्हें कोई रकम नहीं मिली. आखिर पुलिस से धोखाधड़ी की शिकायत की. पुलिस ने आईटी एक्ट और धोखाधड़ी सहित विविध धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.