Nagpur Mayor Dayashankar Tiwari

    नागपुर. जनता के घरों से संकलित किए जानेवाला कचरा ट्रांसफर स्टेशन पर अधिक समय तक रहने के कारण उससे दुर्गंध फैलती है. जिससे आसपास के लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. संकलित कचरे का वैज्ञानिक पद्धति से सीमित समय में निपटारा करने के लिए उचित नियोजन करने के निर्देश महापौर दयाशंकर तिवारी ने कचरा संकलन करनेवाली कम्पनी और अधिकारियों को दिए.

    लक्ष्मीनगर जोन में कचरा ट्रांसफर स्टेशन की समस्या का महापौर ने बुधवार को जायजा लिया. उपायुक्त राजेश भगत, स्वच्छता अधिकारी डॉ. गजेन्द्र महल्ले, सहायक आयुक्त गणेश राठोड, जोनल अधिकारी रामभाऊ तिडके आदि उपस्थित थे. लक्ष्मीनगर जोन में खामला से जयताला मार्ग पर स्थित ट्रांसफर स्टेशन इसी मैदान के पीछे साकार नगर मैदान में स्थानांतरित किया गया. 

    कम्पनी पर ठोंका जाए जुर्माना

    खामला से जयताला मार्ग पर स्थित ट्रांसफर स्टेशन के चलते परिसर में निरंतर दुर्गंधी का वातावरण रहता था. इसके अलावा ट्रांसफर स्टेशन के आसपास सुअरों का तांता लगा रहता था. सड़क किनारे ही ट्रांसफर स्टेशन तथा सुअर होने से कई बार दुर्घटनाएं हुई है. परिसर में उचित नियोजन के अभाव और कचरा संकलन करनेवाली कम्पनी की बेतरतीब कार्यप्रणाली के चलते लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही थी.

    इस परेशानी के लिए संबंधित स्वच्छता निरीक्षक को कारण बताओ नोटिस तथा संबंधित कम्पनी पर जुर्माना ठोंकने के निर्देश महापौर ने दिए. उल्लेखनीय है कि घरों से संकलित कचरे को ट्रांसफर स्टेशन पर ले जाया जाता है. जहां से बड़े वाहनों से डम्पिंग यार्ड स्थानांतरित होता है. किंतु लंबे समय तक ट्रांसफर स्टेशन पर ही कचरा पड़ा रहने से दुर्गंध का वातावरण फैलता है. अत: ट्रांसफर स्टेशन की जमीन को समतल कर सीमेंटीकरण करने की हिदायत भी महापौर ने दी. 

    कचरा फेंकने वालों पर कैमेरे की नजर

    महापौर दयाशंकर तिवारी ने कहा कि ओपन प्लॉट पर कचरा फेंककर शहर को गंदा करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की दृष्टि से आवश्यक कार्यवाही की जानी है. कचरा फेंकने वालों पर नजर रख उनके खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए मनपा की ओर से कैमरे लगाए जाएंगे. रिंग रोड पर स्थित पडोले अस्पताल चौक पर बड़ा ओपन प्लॉट है.

    जहां कचरा फेंके जाने से आसपास के लोगों को परेशानी हो रही है. मुख्य मार्ग के किनारे ही कचरा फेंके जाने से लोगों को हो रही परेशानी के चलते कचरा फेंकनेवालों पर अंकुश लगना जरूरी है. अत: इस भूखंड पर कैमरे लगाए जाएंगे. इसके अलावा ओपन प्लॉट की स्वच्छता और समतल करने के बाद आनेवाला खर्च संबंधित प्लॉट मालिक से कर के रूप में वसूल करने तथा कर अदा नहीं करने पर नियमों के अनुसार प्लॉट की नीलामी करने के सख्त निर्देश भी महापौर ने दिए.