अप्रैल तक खुलेगा समृद्धि महामार्ग, 26 टोल नाके होंगे

    • नागपुर-शिर्डी शुरू हो सकता है पहले

    नागपुर/मुंबई. मुंबई से नागपुर के बीच बन रहा देश का सबसे हाईटेक हाईवे का 75 प्रतिशत काम हो चुका है. 701 किमी लंबा यह मार्ग को अप्रैल तक खोला जा सकता है. हालांकि नागपुर से शिर्डी के बीच 501 किलोमीटर का रोड पहले खुल सकता है. दिसंबर में मंत्री एकनाथ शिंदे ने शुरू करने की घोषणा की थी लेकिन यह संभव नहीं पाया. अधिकारियों की मानें तो फरवरी में शिर्डी तक महामार्ग को खोलने की पूरी तैयारी हो रही है. 

    एमएसआरडीसी के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक 701 किमी लंबे मार्ग पर कुल 26 टोल नाके होंगे. यह टोल नाके हाईवे पर बने 25 इंटरचेंज के करीब होंगे. टोल संबंधी विस्तृत जानकारी वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है. 21 दिसंबर 2021 से 3 मार्च 2022 तक इच्छुक आवेदक टेंडर के लिए दस्तावेज इंटरनेट से डाउनलोड कर सकता है. प्रोजेक्ट और टेंडर की जानकरी के लिए 5 जनवरी को प्री-बिड मीटिंग आयोजित की गई है. 

    तीन चरणों में खोलने की योजना

    सरकार ने महामार्ग को 3 चरणों में खोलने की योजना तैयार की है. अप्रैल 2022 तक पहला फेस और वर्ष के अंत तक पूरा मार्ग खोला जाएगा. पहले चरण के तहत 520 किमी लंबे हाईवे को खोला जाएगा. 520 किमी का यह मार्ग नागपुर से शिर्डी तक का होगा. दूसरे चरण में 623 किमी हाईवे को खोला जाएगा. यह नागपुर से इगतपुरी तक होगा. अंत में पूरे 701 किमी लंबे हाईवे पर वाहनों की आवाजाही शुरू हो जाएगी.

    दोनों तरफ होगी सुरक्षा दीवार 

    समृद्धि महामार्ग देश का पहला सबसे बडा हाईवे है जिसके दोनों तरफ सुरक्षा दीवार होगी. 700 किमी के हाईवे पर 1,400 किमी की सुरक्षा दीवार का निर्माण कार्य चल रहा है. 

    40,000 करोड़ के कार्य पूरे 

    महामार्ग का निर्माण कार्य पूरी तेजी से जारी है. अप्रैल में इसे खोला जा सकता है. कई जगहों पर फिशिंग टच दिया जा रहा है. शिर्डी तक के लिए सरकार जब चाहे निर्णय ले सकती है. निर्णय लेने के बाद आवश्यक तैयारी के लिए 1 माह का टाइम और लगेगा ताकि वाहनों का आवागमन सुचारु हो सके. 55,000 करोड़ के इस प्रोजेक्ट पर अब तक 40,000 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं.

    विदर्भ के अधिकांश हिस्सों में काम हो चुका है. जहां कहीं बचा है उसे युद्ध स्तर पर किया जा रहा है. शिर्डी तक मार्ग कब खोलना है या सरकार को तय करना है. लेकिन शिर्डी तक के मार्ग की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है. 2 माह में भी महामार्ग को आंशिक रूप से खोला जा सकता है.-राधेश्याम मोपलवार, प्रबंध निदेशक, एमएसआरडीसी