महाराष्ट्र में नाइट कर्फ्यू, ठाकरे सरकार का निर्णय

  • रात के 11 बजे से सुबह के 6 बजे तक महानगरों में धारा 144 लागू
  • यूरोप, मध्य-पूर्व देशों से आने वालों को 14 दिन क्वारंटाइन अनिवार्य
  • ब्रिटेन में कोरोना के नए विषाणु से डरी सरकार
  • ट्रेन और बस के परिचालन में नहीं होगा असर

मुंबई.  वैश्विक महामारी (Global epidemic) कोरोना (corona) के रोकथाम को लेकर मंगलवार से मुंबई सहित पूरे राज्य के सभी महानगरपालिका क्षेत्र में नाइट कर्फ्यू (Night curfew) लागू करने का निर्णय महाविकास आघाड़ी सरकार (Mahavikas Aghadi Government ) ने लिया है. यूरोप के देशों में कोरोना का प्रभाव तेजी से बढ़ा है. ब्रिटेन (Britain) में कोरोना का नया वायरस  (New virus) मिलने को लेकर सोमवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ((Chief Minister Uddhav Thackeray) ने उपाय योजना बाबत उच्च स्तरीय बैठक की. जिसमें रात के 11 बजे से सुबह के 6  बजे तक कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया गया. सरकार का निर्णय 5 जनवरी (5 January)तक लागू रहेगा.

इसके साथ ही यूरोप, मध्य-पूर्व देशों से आने वालों को 14 दिन क्वारंटाइन अनिवार्य किया गया है.मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि आने वाले 15 दिनों तक विशेष एहतियात बरतने की आवश्यकता है. सरकार के निर्णय के तहत  राज्य के 27 महानगरपालिका क्षेत्रों में एक स्थान पर 5 से अधिक लोग इकट्ठा नहीं हो सकेंगे. इसका असर ट्रेन और बस (Train and bus) के परिचालन में नहीं पड़ेगा.

बैठक के बाद नाइट कर्फ्यू का निर्णय लिया गया

रविवार को जनता के साथ संवाद  कार्यक्रम में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ब्रिटेन में कोरोना के नए वायरस का जिक्र किया था,हालांकि उन्होंने कहा था कि इसके लिए न तो नाइट कर्फ्यू लगाया जाएगा और न ही लाकडाउन घोषित किया जाएगा.लेकिन मुख्यमंत्री आवास वर्षा में हुई बैठक के बाद नाइट कर्फ्यू का निर्णय लिया गया. मुख्यमंत्री ठाकरे ने विशेष सतर्कता बरतने का निर्देश देते हुए कहा कि बाहर के देशों से आने वाले यात्रियों की जांच कड़ाई से की जानी चाहिए. सभी यूरोपीय देशों के साथ ही मध्य-पूर्व देशों से आने सभी यात्रियों को 14 दिन तक क्वारंटाइन अनिवार्य किया गया है.क्वारंटाइन किए गए यात्रियों की पांचवें अथवा सातवें दिन कोरोना जांच (आरटीपीसीआर) की जाएगी. क्वारंटाइन की अवधि पूरा होने के बाद ही उन्हें घर छोड़ा जाएगा.

यात्रियों के क्वारंटाइन के लिए होटल की अलग से व्यवस्था 

 मुख्यमंत्री की तरफ से कहा गया है कि जिस एयरपोर्ट पर अंतर्राष्ट्रीय जहाज लैंड करते हैं वहां के मनपा आयुक्त यात्रियों के क्वारंटाइन  के लिए होटल और अलग से अस्पताल की व्यवस्था उपलब्ध कराएंगे. इसके साथ ही यूरोप से आए यात्रियों में नए तरह के कोरोना वायरस मिलने पर उनकी देखभाल अलग अस्पताल में की जाएगी. मुख्यमंत्री ने जांच करने वाले सभी कर्मियों को पीपीई किट देने का निर्देश दिया है.