Pimpri-Chinchwad Police

    पिंपरी:  कोरोना महामारी (Corona Pandemic) की तीसरी लहर (Third Wave) ने आरंभ से ही उत्पात मचाना शुरू कर दिया है। इसकी रोकथाम के लिए कड़े प्रतिबंध (Strict Restrictions) लगाने भी शुरू कर दिए गए हैं। बावजूद इसके आए दिन संक्रमितों (Corona Infected) का आंकड़ा बढ़ रहा है। इसकी चपेट में कोरोना (Corona) की रोकथाम के लिए सबसे आगे डटे हुए फ्रंटलाइन वर्कर्स भी आ रहे हैं। इसमें पुलिस वालों का भी समावेश है जिन पर कानून व्यवस्था के साथ कोरोना की रोकथाम की भी जिम्मेदारी है। इसके चलते राज्य सरकार के गृह विभाग ने 55 वर्ष से ज्यादा आयु के पुलिस वालों को वर्क फ्रॉम होम (Work from Home) यानी घर से काम करने की छूट दी है। इसके अनुसार पिंपरी -चिंचवड़ पुलिस (Pimpri-Chinchwad Police) के 48 अधिकारियों और 355 कर्मचारियों कुल 403 कर्मचारियों को राहत मिली है।

    पिंपरी-चिंचवड़ शहर में कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन के साथ ही कोरोना का संक्रमण भी बड़ी तेजी से फैल रहा है। शुक्रवार को एक दिन में एक हजार संक्रमित मिलने से चिंता बढ़ गई है। इन हालातों में पुलिस अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए अपने नागरिकों के सीधे संपर्क में है। इससे पुलिस कर्मियों के कोरोना से संक्रमित होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। 55 से ज्यादा आयुवाले पुलिस कर्मी दूसरी कई बीमारियों से ग्रसित हैं। उसी में हाई ब्लड प्रेशर, शगर, हार्ट के मरीज कोरोना के संक्रमण की चपेट में जल्दी आते हैं। इसलिए उनकी सुरक्षा को प्राथमिकता देते हुए उन्हें ‘वर्क फ्रॉम होम’ यानी घर से काम करने की सहूलियत देने का निर्णय लिया गया है। 

     राज्य के गृह विभाग ने जारी किया आदेश 

    वर्क फ्रॉम होम के तहत काम करनेवाले पुलिस कर्मचारियों को विभिन्न आपराधिक मामलों की जांच के दस्तावेज, रिपोर्ट की पूर्तता, समीक्षा आदि जैसे कामों की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। राज्य सरकार के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल की घोषणा के बाद गृह विभाग ने हालिया इसके आदेश जारी किए हैं। पिंपरी-चिंचवड़ पुलिस आयुक्तालय में मनुष्यबल की भारी कमी है। आयुक्तालय में फिलहाल 3275 कर्मचारी हैं। उसमें 55 से ज्यादा आयु के 403 अधिकारी और कर्मचारी शामिल हैं। 48 अधिकारी और 355 कर्मचारी 55 से ज्यादा आयु वर्ग के है। उनमें 305 सहायक पुलिस उपनिरीक्षक और 50 हवलदार हैं। इन सभी को वर्क फ्रॉम होम का विकल्प दिया गया है।