Demand to sanction funds of Rs 1208.47 crore to make Valdhuni and Ulhas river pollution free

  • सांसद डॉ. शिंदे ने की जलशक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत को दिया पत्र

अंबरनाथ.  कल्याण लोकसभा (Kalyan Lok Sabha) क्षेत्र से बहने वाली वालधुनी (Valdhuni) और उल्हास नदी (Ulhas River) पांच शहरों से होकर गुजरती है और करीब 50 लाख लोगों की प्यास बुझाती है, इन नदियों के पानी का उपयोग फसलों के लिए भी किया जाता है।  हालांकि, इन नदियों के बड़े पैमाने पर प्रदूषण (Pollution) ने लाखों नागरिकों के स्वास्थ्य को खतरे में डाल दिया है। 

‘नमामि गंगा’ की तर्ज पर इन नदियों को प्रदूषणमुक्त करने के लिए स्थानीय स्वराज्य संस्था ने उल्हास नदी के प्रदूषण के लिए 211. 34 करोड़ रुपए और वालधुनी नदी के प्रदूषण के लिए 997. 13 करोड़ ऐसी कुल 1208. 47 की योजना बनाकर उसे राज्य सरकार के माध्यम से केन्द्र सरकार को भेजा है। इसे जल्द मंजूरी दिए जाने की मांग कल्याण लोकसभा क्षेत्र के सांसद डॉ.  श्रीकांत शिंदे (MP Dr. Shrikant Shinde) ने केंद्रीय जल एवं ऊर्जा मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Minister Gajendra Singh Shekhawat) से की है।  महाराष्ट्र सरकार ने “महाराष्ट्र में स्वच्छ नदियों के लिए मिशन” अभियान के तहत राज्य में 21 नदियों को पुनर्जीवित करने की घोषणा की है।  

महाराष्ट्र सरकार ने केंद्र सरकार को रिपोर्ट भेजी 

महाराष्ट्र सरकार ने इसके फंड की मंजूरी के लिए केंद्र सरकार को रिपोर्ट भेजी है और मांग की है कि जल संसाधन मंत्रालय द्वारा जल्द से जल्द ‘नमामि गंगा’ की तर्ज पर वालधूनी और उल्हास नदियों को प्रदूषणमुक्त करने के लिए धनराशि स्वीकृत की जानी चाहिए। रिपोर्ट नियंत्रण बोर्ड, महाराष्ट्र औद्योगिक विकास मंडल को भी इसकी प्रतियां प्रस्तुत की गई है।  साथ ही राष्ट्रीय पर्यावरण इंजीनियरिंग अनुसंधान संस्थान (एनईईआरआई) जैसी संस्था को इसपर नियंत्रण करने के लिए नियुक्त करने की भी मांग को लेकर मानसून सत्र के दौरान सांसद डॉ.  श्रीकांत शिंदे ने जल शक्ति मंत्रालय, दिल्ली में जल ऊर्जा मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से मुलाकात की।