Nicotine flavor worth Rs 9 crore seized by crime branch police

    भिवंडी. भिवंडी शहर (Bhiwandi City) और आसपास शहरों में बड़ी संख्या में अनधिकृत रुप से हुक्का पार्लर चल रहे है।  नशे के लिए बड़ी संख्या में निकोटीन युक्त फ्लेवर इस्तेमाल किया जाता  है। अवैध रूप से चल रहे हुक्का पार्लरो से युवा पीढ़ी नशे की आदी हो रही है। सूचना के उपरांत भिवंडी (Bhiwandi) क्राइम ब्रांच (Crime Branch) ने गोदाम में छापामार कर 9 करोड़ 36 लाख 78 हजार 520 रुपये कीमत का प्रतिबंधित निकोटीन युक्त ‘अफजल’ और ‘सॉक्स हर्बल’ नामक फ्लेवर जब्त किया है।

    गौरतलब है कि भिवंडी क्राइम ब्रांच के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अशोक होनमाने ने बताया कि 6 अक्टूबर को मुखबिर से सूचना मिली थी। सूचनानुसार नारपोली पुलिस स्टेशन अंर्तगत स्थित धामणकर नाका के पास अल्लाफ अत्तरवाला की दुकान पर छापामार कर राज्य में प्रतिबंधित हुक्का पार्लर के कुल 57 विभिन्न कंपनियों के फ्लेवर 8940 रुपये का मुद्देमाल जब्त किया गया था। नारपोली पुलिस ने इस  मामले में गुनाह मामला दाखिल किया है। गुप्तचर से मिली दोबारा जानकारी पर दापोडा ग्राम पंचायत सीमा अंर्तगत हरीहर कंपलेक्स के हाय स्ट्रीट इम्पेक्स लिमिटेड मुंबई के कंपनी के 3 गोदाम पर वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अशोक होनमाने के नेतृत्व में सहायक पुलिस निरीक्षक महेंद्र जाधव, पुलिस उप निरीक्षक शरद बरकड़े, पुलिस कर्मचारी अनिल पाटिल, सुधाकर चौधरी, राजेंद्र चौधरी, देवानंद पाटिल, श्रीधर हुडेकरी, पुलिस नाईक रंगनाथ पाटिल, प्रमोद धाडवे, सचिन जाधव, साबिर शेख, किशोर थोरात, वसंत गवारे, सचिन सोनवणे,भावेश घरत आदि ने छापेमारी कर गोदाम में रखा निकोटीन युक्त अफज़ल हुक्का फ्लेवर के कुल 2862 बॉक्स बाजार कीमत 8 करोड़ और 42 लाख 49 हजार 610 रुपये और सॉक्स हर्बल फ्लेवर’ के 375 बॉक्स बाजार कीमत  94 लाख 28 हजार 910 रुपये कुल 9 करोड़ 36 लाख 78 हजार 520 का मुद्देमाल जब्त किया है।

    वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अशोक माने ने प्रारंभिक जांच के बाद बताया कि अफजल हुक्का फ्लेवर’ और ‘सॉक्स हर्बल हुक्का फ्लेवर’ दोनों सॉक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, नरीमन पांइट, मुंबई की कंपनी में उत्पादन और निर्यात किया जाता है। कंपनी द्वारा बनाया गया निकोटीन से भरा ‘अफजल हुक्का फ्लेवर’ भिवंडी शहर क्षेत्र, ठाणे, मुंबई और महाराष्ट्र के अन्य स्थानों में बड़ी मात्रा में अवैध रूप से बेचा जा रहा है जिसे पीकर युवा वर्ग नशे के आगोश में समा रहा है।