बैंकों ने खरीफ फसल कर्ज वितरण का लक्ष्य 15 अगस्त के पूर्व पूरा करें: जिलाधिकारी षण्मुगराजन एस. ने दिए निर्देश

    वाशिम. जिले में कोई भी पात्र किसान खरीफ फसल कर्ज से वंचित नहीं रहे, इसलिए बैंकों ने कर्ज से वंचित किसानों को फसल कर्ज वितरित करके 15 अगस्त के पूर्व कर्ज वितरण का लक्ष्य पूरा करने के निर्देश जिलाधिकारी षण्मुगराजन एस. ने दिए है़.

    जिलाधिकारी कार्यालय के वाकाटक सभागृह में वर्ष 2021-22 के खरीफ फसल कर्ज वितरण का बैंकों से जायजा लेते समय जिलाधिकारी षण्मुगराजन एस. बोल रहे थे. इस अवसर पर जिला अग्रणी बैंक के व्यवस्थापक दत्तात्रय निनावकर, नाबार्ड के जिला विकास व्यवस्थापक शंकर कोकडवार व बैंकों के जिला समन्वयक आदि उपस्थित थे. 

    इस अवसर पर जिलाधिकारी षण्मुगराजन ने कहा कि किसानों को खरीफ मौसम में समय पर फसल कर्ज उपलब्ध कराना यह बैंकों की जिम्मेदारी है़  अपने बैंक शाखा अंतर्गत आनेवाले कोई भी किसान फसल कर्ज से वंचित नहीं रहना चाहिए़  इस संबंध में किसी भी किसान से शिकायत नहीं आना चाहिए.

    इस पर बैंकों ने विशेष ध्यान देना चाहिए़  अनेक बैंकों ने इस खरीफ मौसम में 50 प्रतिशत से कम फसल कर्ज का वितरण किया है़  यह खेदजनक बात होकर जिस बैंकों ने फसल कर्ज कम प्रमाण में वितरित किया है़  उन बैंकों से सरकारी जमापूंजी निकाली जाएगी़  जिससे अब बैंकों ने किसानों तक पहुंचकर फसल कर्ज उपलब्ध करें. संबंधित बैंकों ने नियोजन करके आगामी 15 अगस्त के पूर्व किसानों को खरीफ फसल कर्ज वितरण करें. 

    वर्ष 2021-22 इस वर्ष के खरीफ मौसम में 1 लाख 4 हजार 791 किसान सभासदों को 1 हजार 25 करोड़ रुपयों का फसल कर्ज वितरण का लक्ष्य दिया गया है़  इन में से 4 अगस्त तक 90,948 किसानों को 753 करोड़ 23 किसानों को फसल कर्ज वितरित किया है़  स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसिज बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, कैनरा बैंक, सेंट्रल बैंक इंडिया, यूको बैंक व यूनियन बैंक ऑफ इंडिया इस राष्ट्रीयकृत बैंकों में साथ ही ऍक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक व आईडीबीआई बैंक इन निजी बैंकों को 15 अगस्त के पूर्व 90 प्रतिशत फसल कर्ज वितरण का लक्ष्य दिया गया है़  और 90 प्रतिशत से अधिक फसल कर्ज वितरण करनेवाले विदर्भ कोकण ग्रामीण बैंक व अकोला जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंकों ने भी अपने कर्ज वितरण का लक्ष्य पूर्ण करना चाहिए.