प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    करंजी/पांढरकवडा. पांढरकवडा तहसील सहित ग्रामीण क्षेत्रों में डेंगू फैल रहा है. जिसके कारण रोगियों की संख्या में वृद्धि हुई है. क्षेत्र में डेंगू 2 मलेरिया 4 टाई फाइट 25 मरीज मिले है.

    करंजी क्षेत्र और अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में डेंगू के रोगी मिलने के बाद, ग्रामीण क्षेत्रों में भय का माहौल है. ज्ञात है कि लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है इलाज के लिए सरकारी या निजी अस्पताल. कुछ रोगियों का इलाज ग्रामीण अस्पतालों में किया जा रहा था. डेंगू के मच्छर अपने लार्वा को साफ पानी में छोड़ते हैं.

    जिससे आठ दिनों में एक बार टंकी पूरी खाली कर सुखाने की सलाह करंजी के करंजी ग्रामपंचायत व सचिव, आशा सेविका, पुलिस पाटिल को दी. उसी तरह, जहां साफ या बारिश का पानी जमा होता है, गप्पी मछली छोड़ी जाती है. नागरिकों से डेंगू मच्छर भगाने वाली दवा का छिड़काव करने को कहा गया है.

    चूंकि डेंगू के मच्छर स्वच्छ पानी में पैदा होते हैं, इसलिए डॉ. मंगेश दुर्गे ने इसे लगातार एक दिन तक सूखा रखने की सलाह दी. तेज बुखार, उल्टी, मांसपेशियों और हड्डियों में दर्द, आंखों में जलन, नजदीकी अस्पताल में जाकर तुरंत इलाज कराएं.

    डॉ मंगेश दुर्गे चिकित्सा अधीक्षक ग्रामीण अस्पताल करंजी रोड.