Image Source: Wimbledon/Twitter
Image Source: Wimbledon/Twitter

    दुनिया की नंबर एक खिलाड़ियों की श्रेणी में आने वाली ऑस्ट्रेलिया (Australia) की एश्ले बार्टी (Ashleigh Barty) गुरुवार को पहली बार विंबलडन के फाइनल (Wimbledon Final) में पहुंच गई है। उन्होंने सेमीफाइनल खेल में पूर्व चैंपियन रहीं जर्मनी की एंजेलिक केर्बर (Angelique Kerber) को हराकर फाइनल में अपना नाम दर्ज करवाया है। बार्टी ने केर्बर को 6-3, 7-6 (3) को हराया है। अब बार्टी का फाइनल में कैरोलिना प्लिस्कोवा (Karolina Pliskova) से मुकाबला होगा। वहीं बार्टी के लिए ये जीत एक ऐतिहासिक जीत है। क्योंकि साल 1980 में इवोन गुलागोंग के बाद से पहली ऑस्ट्रेलियाई महिला खिलाड़ी हैं, जो विंबलडन फाइनल में खेलेंगीं। 

    बता दें कि बार्टी का यह दूसरा ग्रैंड स्लैम फाइनल है। इससे पहले साल 2019 में वह फ्रेंच ओपन का खिताब जीती थीं। वहीं 2020 में वह ऑस्ट्रेलियन ओपन के सेमीफाइनल तक पहुंची थीं। इसके अलावा बार्टी ने हमवतन अजला टोमलजानोविच को महज 66 मिनट में 6-1, 6-3 से हराकर पहली बार विंबलडन के सेमीफाइनल में पहुंची थीं। वहीं, पूर्व चैंपियन जर्मनी की एंजेलिक केर्बर ने क्वार्टरफाइनल में पूर्व चैंपियन ने चेक गणराज्य की कारोलिना मुचोवा को 6-2, 6-3 से हराकर सेमीफाइनल में पहुंची थीं।

    बार्टी और प्लिसकोवा के बीच होगा फाइनल मुकाबला 

    अब फाइनल में बार्टी और प्लिसकोवा के बीच भिड़ंत होगी। जिसके बाद विंबडलन को महिला वर्ग में नई चैंपियन मिलेगी। बता दें कि दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में चेक गणराज्य की कैरोलिना प्लिसकोवा ने बेलारूस की अर्यना सबालेंका को 5-7, 6-4, 6-4 से हराकर पहली बार फाइनल में अपनी जगह बनाई है।