110 टन सरकारी चावल जब्त, 3 लोग गिरफ्तार

  • गोदाम में पुलिस का छापा
  • कालाबाजारी करने की हो रही थी तैयारी

नवी मुंबई. कोरोना काल में गरीबों में बांटने के लिए सरकार के द्वारा दिए गए चावल को का अवैध रूप से भंडारण करने और उसकी कालाबाजारी करने का मामला प्रकाश में आया है. इस मामले में पनवेल की एक गोदाम से पनवेल शहर पुलिस ने छापा मारा 110 टन सरकारी चावल बरामद किया है. इस मामले में पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है.

   पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पनवेल के पलसपे गांव के पास टेक केयर लॉजिस्टिक के परिसर में पलक रेशन नामक गोदाम में सरकारी अनाज का अवैध रूप से भंडारण किया गया है. इसके बारे में नवी मुंबई पुलिस के परिमंडल- 2 के पुलिस उपायुक्त को जानकारी मिली थी. जिन्होंने इस मामले में पनवेल शहर पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अजय कुमार लांडगे को कार्रवाई करने का निर्देश किया. जिसके बाद वरिष्ठ पुलिस लांडगे के मार्गदर्शन में उक्त गोदाम में पुलिस ने छापा मारकर 110 टन सरकारी चावल को जब्त किया गया. जिसकी कीमत 33 लाख 8 हजार रुपए बताई गई है. 

  गोदाम में चल रहा था मिलावट का काम 

पुलिस के मुताबिक महाराष्ट्र सोलापुर जिले के बारशी इलाके से सरकारी चावल को गैरकानूनी तरीके से पनवेल की पलक रेशन गोदाम में लाया गया था. इस गोदाम में सरकारी चावल को अन्य चावल में मिलाकर उसकी कालाबाजारी करने के लिए में बोरियों में भरने का काम किया जा रहा था. इस काम को करने वाले भीमाशंकर रंगनाथ खाडे, इकबाल काजी व लक्ष्मण चंद्र पटेल को गिरफ्तार किया गया है.

    अन्य राज्यों से आया था चावल 

कोरोना काल में गरीबों को बांटने के लिए यह चावल पंजाब और हरियाणा के सरकारी गोदाम तथा फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया की गोदाम से सोलापुर  भेजा गया था. जिसकी 50 किलो चावल से भरी 2220 बोरी पनवेल के गोदाम में कालाबाजारी करने के लिए लाई गई थी. इस मामले में और कितने लोग शामिल है. इसके बारे में पुलिस कमिश्नर संजय कुमार के निर्देश पर आगे की छानबीन व पूछताछ जारी है.