Kanpur Road Accident
PTI Photo

    कानपुर/लखनऊ (उप्र). उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कानपुर जिले (Kanpur District) के सचेंडी थाना क्षेत्र में मंगलवार देर शाम बस और लोडर (भार वाहक) की भीषण टक्कर में 16 लोगों की मौत हो गई और करीब आधा दर्जन घायल हो गये। घायलों में दो की हालत अत्यंत गंभीर बताई जा रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर के सचेंडी क्षेत्र में हुई सड़क दुर्घटना में लोगों की मृत्यु होने पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए दुर्घटना में मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने की घोषणा की है।

    कानपुर आउटर के पुलिस अधीक्षक अष्टभुजा प्रसाद सिंह ने बताया कि तेज रफ्तार बस ने एक लोडर को टक्कर मार दी जो उछलकर हाइवे पर जा गिरी, जबकि बस भी पलट गई और गहरी खाई में जा गिरी। सिंह ने कहा कि टक्कर इतनी जोरदार थी कि लगभग सभी यात्री बस में फंस गए और गंभीर रूप से घायल हो गए।

    Accident in Kanpur

    भीषण हादसे की सूचना मिलते ही कानपुर के आधा दर्जन थानों से भारी संख्या में पुलिस बल को मौके पर रवाना कर दिया गया। उन्होंने बताया कि पुलिसकर्मियों ने यात्रियों को बाहर निकाला और पाया कि उनमें से कई पहले ही मर चुके हैं। घायलों को गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज के एलएलआर अस्पताल पहुंचाया गया जहां उनका उपचार चल रहा है। गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य आरबी कमल ने ‘पीटीआई-भाषा’ को फोन पर बताया कि अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि गंभीर रूप से घायल पांच लोगों को लाला लाजपत राय (एलएलआर) अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कमल ने कहा कि दो और लोगों की हालत बहुत नाजुक है।

    Accident in Kanpur

    मंगलवार को जारी सरकारी बयान के अनुसार, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर के सचेंडी क्षेत्र में एक सड़क दुर्घटना में लोगों की मृत्यु पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए दुर्घटना में मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।

    Accident in Kanpur

    उन्होंने मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना की है। मुख्यमंत्री ने इस सड़क दुर्घटना में घायल लोगों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए समुचित इलाज की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि उच्चाधिकारी मौके पर पहुंचकर युद्धस्तर पर राहत कार्य सुनिश्चित कराएं। उन्होंने जिला प्रशासन को दुर्घटना के कारणों की जांच कर आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। (एजेंसी)