Akhilesh Yadav and Yogi Adityanath

    लखनऊ. समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने राज्य सरकार पर कोविड-19 महामारी (COVID-19 Pandemic) में मारे गए लोगों की असल संख्या छुपाने का आरोप लगाया है। अखिलेश ने मंगलवार को एक ट्वीट कर कहा, “सूचना का अधिकार कानून के तहत मिली जानकारी से ये भंडाफोड़ हुआ है कि 31 मार्च, 2021 तक कोरोना काल के नौ महीनों में उत्तर प्रदेश के 24 जिलों में मृत्यु का आंकड़ा सरकार द्वारा दिये गये आंकड़ों से 43 गुना तक अधिक है।”

    उन्होंने ट्वीट में आरोप लगाया, “भाजपा सरकार मृत्यु के आँकड़े नहीं दरअसल अपना मुँह छिपा रही है।” हालांकि यह जाहिर नहीं हो सका है कि आरटीआई के तहत यह जानकारी किसे और कब दी गई। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने मंगलवार को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण में देरी और गुणवत्तापूर्ण निर्माण नहीं होने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा की कथनी-करनी में भारी अंतर है।

    सपा मुख्यालय से मंगलवार को जारी एक बयान में अखिलेश यादव ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का भी खूब प्रचार किया गया पर हकीकत में उसका निर्माण कार्य बीरबल की खिचड़ी की तरह चल रहा है।

    यादव ने दावा किया, ”पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सड़क पर उकरौरा गांव के पास बड़ा गड्ढा बन गया और पहली बारिश में ही बिना कोई गाड़ी चले गाजीपुर, मऊ, आजमगढ़ में 50 से अधिक जगहों पर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे टूट गया, घटिया गुणवत्ता से निर्माण कार्य का यह नमूना है।”

    सपा प्रमुख ने कहा कि यह वही पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे है जिसकी शुरुआत समाजवादी सरकार में हो चुकी थी जबकि समाजवादी सरकार में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे दो वर्ष में ही बना था। उन्होंने सत्तारूढ़ दल पर हमला करते हुए कहा कि अपनी नीतियों से भाजपा ने विकास की राजनीति को मटियामेट कर दिया है और उसकी विध्वंस की राजनीति से लोकतांत्रिक व्यवस्था के सामने प्रश्नचिह्न लगा है। उसका कथित सांस्कृतिक राष्ट्रवाद गुमराह करने का पुराना हथकंडा है।

    यादव ने दावा किया, ”वस्तुतः भाजपा ने प्रदेश में गत साढ़े चार साल में कुछ काम नहीं किया, उसके पास गिनाने को एक भी काम नहीं है।” उन्होंने आरोप लगाया, ”भाजपा ने बस समाज को बांटने वाली राजनीति को ही अपनाया है और उसे ही बढ़ावा दिया है, वह नफरत फैलाती है।” (एजेंसी)