Criminal cases against 25 percent of candidates in the fifth phase of West Bengal elections: ADR
Representative Image

    राजेश मिश्र

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पंचायत चुनावों (Panchayat Elections) के महायुद्ध की शुरुआत हो गई है। पंचायत चुनावों में आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से राहत मिलने के बाद शुक्रवार को राज्य निर्वाचन आयोग ने अधिसूचना जारी कर दी है। अप्रैल महीने में विभिन्न चरणों में मतदान (Vote) होगा, जबकि पांच अन्य राज्यों के साथ ही दो मई को मतगणना होगी। 

    पंचायतों में आरक्षण को लेकर दायर एक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने इस मामले में दखल देने से इंकार कर दिया है। कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं से हाईकोर्ट जाने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के साथ ही राज्‍य निर्वाचन आयोग ने चुनाव की तारीखों का ऐलान किया है।

     चार चरणों में पंचायत चुनाव होंगे

    इस बार कुल चार चरणों में प्रदेश में पंचायत चुनाव होंगे। आयोग की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक 15, 19, 26 और 29 अप्रैल को विभिन्न जिलों में मतदान होंगे, जबकि 2 मई को मतगणना होगी। राजधानी लखनऊ में मतदान 19 अप्रैल को होंगे। तारीखों के ऐलान के साथ ही शुक्रवार से ही प्रदेश में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है।

    चुनाव की प्रक्रिया तीन अप्रैल से शुरू होगी

    राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से जारी कार्यक्रम में मुताबिक, पंचायत चुनाव की प्रक्रिया तीन अप्रैल से शुरू हो जाएगी। प्रदेश भर में  3, 7, 13 और 17 अप्रैल से चारों चरण के लिए अलग-अलग नामांकन होंगे। हर चरण के नामांकन के लिए दो दिन रखा गया है। 

    यहां होंगे पहले चरण में मतदान

    निर्वाचन आयुक्त ने बताया कि पहले चरण के मतदान में सहारनपुर, गाजियाबाद, रामपुर, बरेली, हाथरस, आगरा, कानपुर नगर, झांसी, महोबा, प्रयागराज, रायबरेली, हरदोई, अयोध्या, श्रावस्ती, संत कबीर नगर, गोरखपुर, जौनपुर और भदोही जिलों में वोट डाले जाएंगे। 

     दूसरे चरण में यहां होंगे मतदान

    इसी तरह दूसरे चरण के मतदान में मुजफ्फरनगर, बागपत, गौतम बुध नगर, बिजनौर, अमरोहा, बदायूं, एटा, मैनपुरी, कन्नौज, इटावा, ललितपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, लखनऊ, लखीमपुर खीरी, सुल्तानपुर, गोंडा, महाराजगंज, वाराणसी और आजमगढ़ जिले शामिल होंगे।

    तीसरे चरण में यहां पड़ेगे वोट

    तीसरे चरण में शामली, मेरठ, मुरादाबाद, पीलीभीत, कासगंज, फिरोजाबाद, औरैया, कानपुर देहात, जालौन, हमीरपुर, फतेहपुर, उन्नाव, अमेठी, बाराबंकी, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, देवरिया, चंदौली, मिर्जापुर और बलिया में मतदान होगा। 

    चौथे चरण में इन जिलों में होगा मतदान

    निर्वाचन आयुक्त के मुताबिक चौथे चरण के मतदान में बुलंदशहर, हापुड़, संभल, शाहजहांपुर, अलीगढ़, मथुरा, फर्रुखाबाद, बांदा, कौशांबी, सीतापुर, अंबेडकरनगर, बहराइच, बस्ती, कुशीनगर, गाजीपुर, सोनभद्र और मऊ जिले शामिल किए गए हैं।

    मतगणना भी दो मई को होगी

    जारी अधिसूचना के मुताबिक पहले चरण के मतदान में 18 जिले, दूसरे चरण के मतदान में 20 जिले तो तीसरे चरण के मतदान में 20 जिले शामिल किए गए हैं। चौथे और अंतिम चरण के मतदान में 17 जिले में लोग अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। देश में पांच प्रदेशों में हो रहे विधानसभा चुनावों के साथ ही उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनावों की मतगणना भी दो मई को होगी। शुक्रवार को ही पंचायत सामान्य निर्वाचन 2021 के लिए  त्रिस्तरीय पंचायतों के आरक्षण एवं आवंटन की सूची को विभागीय वेबसाइट पर लोड कर दिया गया है। यहां से पंचायत सामान्य निर्वाचन 2021 नाम के वेबलिंक से जन सामान्य को त्रिस्तरीय पंचायतों की आरक्षण एवं आवंटन की सूची उपलब्ध हो सकेगी।

    12.39 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे

    उत्तर प्रदेश के राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने शुक्रवार को अधिसूचना जारी करते हुए बताया कि प्रदेश भर में कुल ग्राम पंचायतों की संख्या 58189 है जबकि ग्राम पंचायतों के वार्डों की संख्या  732563 है। प्रदेश में  क्षेत्र पंचायतों की संख्या 826 और क्षेत्र पंचायतों के वार्डों की संख्या 75855 है। प्रदेश में कुल 75 जिला पंचायत हैं। क्षेत्र पंचायत व जिला पंचायत प्रमुख का चुनाव चुने गए सदस्य करेंगे। इस बार प्रदेश में  80762 मतदान केंद्र होंगे जहां कुल 12.39 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।