2022 में योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में चुनाव लड़ेगी भाजपा, नहीं होगा मंत्रिमंडल का विस्तार 

    लखनऊ: उत्तर प्रदेश को लेकर भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) में जारी उठापठक के बीच बड़ी ख़बर सामने आई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार केंद्रीय नेतृत्व ने तय किया है कि, पार्टी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly Election) में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) की अगुवाई में ही मैदान में उतरेगी, साथ ही चुनाव के पहले मंत्रिमंडल (Cabinet) विस्तार भी नहीं होगा। वहीं आगामी चुनाव में विधायकों (MLA’s) को उनके परफॉरमेंस के आधार पर टिकट दिया जाएगा। 

    सूत्रों के अनुसार, संगठन महासचिव मंत्री बीएल संतोष से मिली रिपोर्ट के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच बैठक हुई। इस दौरान नेतृत्व बदलने को लेकर चल रही अटकलों पर विराम लगाते हुए योगी के अगवाई में चुनाव लड़ने का तय किया गया। इसी के साथ विधायकों का चयन संगठन और मुख्यमंत्री योगी के सहमति पर होगा। 

    राधामोहन सिंह ने रजयपाल से की मुलाकात 

    पूर्व केंद्रीय मंत्री और उत्तर प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह ने यूपी की राज्यपाल आंनदीबेन पटेल से रविवार को राजभवन में मुलाकात की। जिसके बाद मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज हो गई थी। वहीं राज्यपाल से मुलाकात कर निकले राधामोहन ने कहा, “राज्यपाल पुरानी परिचित हैं और आज तक मिल नहीं पाया था। आज उसी औपचारिकता को लेकर मिलने जा रहा हूं। संगठन और सरकार अच्छी तरह चल रहे हैं। कुछ सीटें खाली हैं तो उचित समय पर मुख्यमंत्री निर्णय लेंगे।”

    ज्ञात हो कि, कोरोना वायरस के कारण बने हालात के कारण उत्तर प्रदेश में नेतृत्व की अटकलें लगाई जारही थी। छवि को सुधारने के लिए सरकार के साथ संगठन में भी बड़े बदलाव की खबरें सामने आ रही थी। जिसमें प्रशासनिक अधिकारी से एमएलसी बने एके शर्मा को मंत्रिमंडल में शामिल कर बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। वहीं उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या को पुनः प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है।