शिवरात्रि विशेष : जानें पारद शिवलिंग का महत्व और फायदें

मिलता है नाम और शौहरत मान्यता है कि पारद की पूजा करने पर मनृष्य को पैसे की समस्याओं से छुटकारा मिलता है। नाम और शौहरत के साथ व्यक्ति समाज में प्रतिष्ठीत बनता है। साथ ही पारद उच्‍च रक्‍तचाप

मिलता है नाम और शौहरत

मान्यता है कि पारद की पूजा करने पर मनृष्य को पैसे की समस्याओं से छुटकारा मिलता है। नाम और शौहरत के साथ व्यक्ति समाज में प्रतिष्ठीत बनता है। साथ ही पारद उच्‍च रक्‍तचाप और अस्‍थमा जैसी बीमारियों में कारगर होता है। 

1000 गुना अधिक फायदा

पारद प्रतिमा की पूजा से 1000 गुना फल अधिक मिलता है। शिव पुराण के अनुसार पारद शिवलिंग की पूजा से घर में लक्ष्‍मी, भगवान शिव और कुबेर देवताओं का वास होता है और घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

सबसे जरूरी बात

पारद शिवलिंग की पूजा घर में आरंभ करने के लिए किसी प्रकार की सिद्धि या प्रतिष्‍ठा की आवश्यकता नहीं होती। पारद को पहले से ही सिद्धि प्राप्‍त है इसलिए आप आपने घर में कभी भी पारद शिवलिंग की पूजा शुरू कर सकते हैं। 

स्वयं सिद्ध धातु है पारद

पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार बिमार व्यक्ति को दवाओं के साथ पारद शिवलिंग की पूजा करनी चाहिए। आपकों बता दें कि पारद शिवलिंग पर सूर्य किरणें पड़ते ही वह इंद्रधनुषी रंग में परावर्तित हो जाता है। इन उर्जावान रंगों में अद्भुत उर्जा होती है जो मनृष्य को उनके पापों से मुक्ती दिलाती है। इसके स्पर्श मात्र से विशेष प्रकार की ऊर्जा का एहसास होने लगता है।