Waghadi River, Wardha

    • तटवर्तीय गांवों में अलर्ट
    • 24 घंटे में 39.18 मिमी बारिश
    • अनेक गांवों का संपर्क टूटा

    वर्धा. जिले में बुधवार से मूसलाधार बारिश हो रही है़ नदियां लबालब बह रही है. बांधों के दरवाजे खोलने की नौबत आई है. नदी तटवर्ती गांवों को अलर्ट किया गया है. पिछले चौबीस घंटे में औसतन 39.18 मिमी बारिश दर्ज की गई है. समुद्रपुर तहसील में वाघाड़ी नदी में बाढ़ की चपेट में आए महिला व पुरुष के बहने की जानकारी है़  उनकी खोज में देर शाम तक प्रशासन की टीमें जुटी थी़ं  जिले के आष्टी तहसील में सर्वाधिक 78.26 मिमी बारिश होने से अतिवृष्टि दर्ज की गई़ रानवाड़ी क्षेत्र के नाले में बाढ़ आने से पुलिया बह गई़  इससे किसान व नागरिकों की आवाजाही पूर्णत: बंद हो गई़ गांवों का संपर्क टूट गया है. 

    नदी व नाले उफान पर

    बुधवार से हो रही बारिश के चलते नदी व नाले लबालब बह रहे हैं. गुरुवार को दोपहर के बाद झमाझम वर्षा होने से जिले के अधिकांश नदी, नाले उफान पर है़ं आर्वी-तलेगांव मार्ग पर वर्धमनेरी की पुलिया से नाले का पानी बहने के कारण कुछ समय के लिए मार्ग की यातायात अवरुध्द हो गई थी़ आष्टी तहसील में बाकली नदी लबालब होकर बहर रही है़ परिणामवश प्रशासन ने तटवर्तीय गांवों को सतर्कता की चेतावनी दी है़  नदी, नालों में उफान पर होने से अनेक गांवों का संपर्क टूटने की जानकारी है. 

    आषाढ़ी एकादशी के बाद मौसम ने ली करवट

    जिले में आषाढ़ी एकादशी के बाद मौसम ने करवट ली. बुधवार की सुबह से झमाझम बारिश शुरू है़ जो देर रात तक चली़ दमदार बारिश से छोटी नदी व नालों में बाढ़ देखने मिली़ कई क्षेत्रों के खेतों में पानी जमने से फसलों का भी  नुकसान होने की जानकारी है़ बारिश ने मुंह फेर लेने के कारण फसलों पर विविध बीमारियों ने आक्रमण कर दिया था़ फसल सूखने पर आई थी़  इससे पूर्व किसानों में चिंता छायी हुई थी़  परंतु बुधवार व गुरुवार को हुई बारिश से किसान राहत महसूस कर रहा है़  किन्तु कुछ हिस्सों में अत्याधिक बारिश के कारण खेतों में जलजमाव हो गया है.

    देवली में सबसे कम बारिश

    पिछले चौबीस घंटे में जिले में औसतन 39.18 मिमी बारिश हुई़  इसमें वर्धा तहसील में 25 मिमी, सेलू 41.40 मिमी, देवली 19.90 मिमी, हिंगनघाट 20.34 मिमी, समुद्रपुर 52.52 मिमी, आर्वी 35.50 मिमी, कारंजा में 40.50 मिमी व आष्टी तहसील में सर्वाधिक 78.26 मिमी बारिश हुई है. 

    अब तक 402.71 मिमी वर्षा

    जिले में अब तक औसतन 402.71 मिमी बारिश हुई है़ इसका प्रतिशत 43.74 फीसदी दर्ज किया गया़ इसमें वर्धा 38.66 फी़ , सेलू 44.85 फी, देवली 48.03 फी़ , हिंगनघाट 45.40 फी, समुद्रपुर 44.86 फी़ , आर्वी 45.50 फी, आष्टी 56.80 फी़ व कारंजा में 61.40 फी़ बारिश हुई.

    बैलबंडी समेत किसान बहा

    समुद्रपुर तहसील में दो दिनों से चल रही लगातार बारिश से वाघाड़ी नदी में बाढ़ आ गई है़ समुद्रपुर निवासी रमाबाई नामदेव मेश्राम (70) यह महिला खेत से घर लौटते समय बाढ़ की चपेट में आ गई़ वाघाड़ी नाले की पुलिया पार करते समय पैर फिसलने से वह नदी के बहाव में बह गई़ दूसरी ओर तहसील के ग्राम तास निवासी संतोष पंढरी शंभरकर यह खेत में गए थे़ बैलबंडी से वापस लौटते समय वें बाढ़ की चपेट में आ गया़ बैलबंडी सहित संतोष बह गया़ दोनों घटना ध्यान में आते ही राजस्व व पुलिस प्रशासन की टीमें घटनास्थल पर पहुंची़ तहसीलदार राजू रणवीर, नायब तहसीलदार के.डी. किरसान, समुद्रपुर के थानेदार हेमंत चांदेवार, धर्मेंद्र तोमर के नेतृत्व में खबर लिखे जाने तक दोनों की खोजबीन जारी थी. वाघाड़ी नदी में बाढ़ आने से तटवर्तीय गांवों तक नदी का पानी पहुंचने की जानकारी है़ वायगांव (गोंड), घुमनखेडा, पारोधी रालेगांव मार्ग कुछ समय के लिए बंद पड़ा था.

    रानवाड़ी-तलेगांव मार्ग बंद

    बुधवार को हुई झमाझम बारिश से रानवाड़ी स्थित नाले को बाढ़ आ गई़ पानी के तेज बहाव के कारण नाले पर बनी पुलिया बह गई़ इससे रानवाड़ी से तलेगांव मार्ग बंद हो गया़ रानवाड़ी के अनेक किसानों की खेती पुलिया के उस पार है़ पुलिया बह जाने से किसान व मजदूरों का खेतों से संपर्क टूट गया है़ साथ ही ग्रामीणों की बाजारपेठ तलेगांव शापं होने से रानवाड़ी के नागरिकों का तलेगांव से भी संपर्क टूट गया है़ संबंधित विभाग ने पुलिया का निरीक्षण कर उपाययोजना करने की मांग रानवाड़ी के नागरिकों ने की है. 

    8 गांवों को चेतावनी

    लगातार चल रही बारिश से जिले के जलाशयों का जलस्तर भी बढ़ गया है़ मौसम विभाग ने आगामी पांच दिनों तक बारिश का अनुमान जताया है़ निम्न वर्धा प्रकल्प के गुरुवार को 3 गेट 5 सेमी से खोले गए़ जहां से 13.40 क्यूसेक पानी वर्धा नदीपात्र में छोड़ा गया़ समुद्रपुर तहसील के कोरा स्थित लालनाला प्रकल्प के 5 गेट खोले गए, जहां से 37.47 क्यूसेक से तथा नांद प्रकल्प के 2 गेट 5 सेमी से खोले गए़  परिणामवश डोंगरगांव, आसोला, नारायणपुर, चिखल कोरा, मंगरुल, सिल्ली, दरोडा आदि आठ गांवों को सतर्कता बरतने का आह्वान सिंचाई विभाग के कनिष्ठ अभियंता वर्मा ने किया है. 

    जलमग्न हुए खेत

    दो दिनों से लगातार शुरू बारिश के कारण कई हिस्सों में खेत जलमय हो गए है़ं बड़ी मात्रा में बारिश पानी जम जाने से छोटे पौधे बह गए है़ं इसमें किसानों का काफी नुकसान होने की जानकारी है.