4 लाख में किशोरी को बेचा था मध्यप्रदेश, स्केच के आधार पर आरोपी गिरफ्तार

  • दो आरोपी वणी पुलिस के हवाले
  • हिंगनघाट पुलिस की हो रही प्रशंसा

वर्धा. 17 वर्षीय किशोरी को 4 लाख रुपयों में मध्यप्रदेश में बेचने का मामला उजागर हुआ़ जटिल प्रकरण में मात्र स्केच के आधार पर हिंगनघाट थाने के दो कर्मचारी मुख्य आरोपी तक पहुंचे़ आरोपी युवक व उसकी माँ को एक घंटे के भितर गिरफ्तार कर वणी पुलिस के हवाले कर दिया गया़. इस प्रकरण का पर्दाफाश होने से सर्वत्र चर्चाओं का बाजार गर्म है़. 

प्राप्त जानकारी के अनुसार हिंगनघाट निवासी 17 वर्षीय किशोरी यवतमाल जिले के केलापुर में अपने दादी के यहां गई थी़ किशोरी हिंगनघाट निवासी राहुल डान्सर नामक युवक के संपर्क में थी़ इस बीच किशोरी अचानक घर से हिंगनघाट जाने की बात कहकर निकल गई़ दादी को लगा किशोरी हिंगनघाट अपने माता-पिता के यहां गई होंगी, तथा मातापिता को लगा की किशोरी दादी के पास ही है़ इस गलतफैमी में तीन माह बित गए़ किशोरी दोनो तरफ न होने की बात सामने आने से वणी पुलिस में शिकायत दर्ज की गई थी़ इस बीच अचानक किशोरी वणी वापिस लौटी़ 23 जून को वणी थाना पहुंच कर किशोरी ने आपबिती कथन करते ही पुलिस के होश उड गए़ पीडिता ने बताया कि, हिंगनघाट निवासी राहुल सर नामक युवक से उसकी पहचान थी़ 25 जनवरी को राहुल ने उसे पांढरकवडा से हिंगनघाट मिलने बुलाया़ उसके बहकावे में आकर किशोरी हिंगनघाट पहुंची़ दो दिन राहुल ने उसे अपने घर में रखा़ पश्चात अपनी माँ के साथ मिलकर दोनों किशोरी को लेकर मध्यप्रदेश पहुंचे़ जहां वंदना ओझा नामक महिला के यहां गए़.

पश्चात तीनों ने मिलकर किशोरी को इंदौर निवासी दिनेश मुलचंद शर्मा नामक को 4 लाख रुपयों में बेच दिया़ शर्मा ने किशोरी से विवाह रचाकर अपने घर रख लिया़ शर्मा नामक व्यक्ती किशोरी को मानसिक व शारिरीक रुप से प्रताडित किया करता था़ किसी तरह अवसर देख पीडित किशोरी शर्मा के चंगूल से छुटकर वणी पहुंची़ पुछताछ में उसने केवल हिंगनघाट निवासी राहुल डान्सवाला इतनी ही जानकारी पुलिस को दी़ वणी पुलिस ने प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए हिंगनघाट पुलिस से संपर्क किया़ साथ ही आरोपी का स्केच हिंगनघाट थाने में भेज दिया़ एक दिन पूर्व आरोपी की तलाश में वणी पुलिस हिंगनघाट पहुंची थी़. 

पुलिस कर्मियों ने दिखाई सतर्कता
हिंगनघाट थाने के कर्मचारी अभय वानखेडे, ताराचंद सोनी ने सतर्कता दिखाते हुए पुरा ध्यान आरोपी की तलाश में लगा दिया़ मात्र स्केच के आधार पर यह दोनो अंतत: आरोपी तक पहुंचे़ पुलिस ने प्रदीप उर्फ भुर्रा उर्फ कोल्या वाकडे व उसकी माँ सरस्वती वाकडे को एक घंटे के भितर हिरासत में ले लिया़ यह गंभीर मामला उजागर होने से जिले में हडकम्प मच गया़ आरोपी प्रदीप यह अलग अलग पहचान बताकर रहता है़. उसके खिलाफ हिंगनघाट थाने में 8 मामले दर्ज बताये गए़. पुत्र व माँ को वणी पुलिस के हवाले कर दिया गया़ इस प्रकरण में विस्तृत जांच करने पर गंभीर जानकारी उजागर होने की संभावना जताई गई़. वहीं दूसरी ओर उपविभागीय पुलीस अधिकारी भीमराव टेले, पुलिस निरीक्षक सत्यवीर बंडीवार व सभी पुलिस कर्मियों ने अभय व ताराचंद के कार्य की खुब प्रशंसा की़.