wardha

  • धोत्रा गांव की घटना, बिच सडक पर खराब हुई एसडी महामंडल की दो बसें, कबाड बसों से नही मिल रही राहत, परिवहन महामंडल की अनदेखी

वर्धा. एसटी महामंडल के कबाड बसों का बिच सडक पर बंद होने का सिलसिला शायद कभी खत्म ही ना हो. लेकिन उससे परिवहन मंडल को कुछ लेना देना ही नही है. ऐसा ही वाकया हिंगनघाट तहसील अंतर्गत आनेवाले धोत्रा गांव में गुरुवार को देखने मिला. जहां हिंगनघाट से वर्धा के लिए यात्रियों को लेकर निकली बस सडक पर ही खराब हो गई. परंतु मामला यही पर ही नही रुका तो, डिपों से भेजी गई दूसरी बस भी धोखा दे गई. पश्चात तीसरी बस बुलाकर यात्रियों को वर्धा पहुंचाया गया. इस भारी मशक्कत के कारण यात्रियों को डेढ घंटे परेशानी का सामना करना पडा.

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के हिंगनघाट डिपो से सुबह 8 बजे एमएच 40 वाय 5148 क्रमांक की हिंगनघाट-अकोला बस 50 यात्रियों को लेकर रवाना हुई. इस बस को एक घंटे तक अपने गंतव्य तक पहुंचना लगभग तय था. परंतु कुछ दूरी तय कर बस धोत्रा गांव पहुंचते ही अचानक खराब हो गई. चालक ने इसकी जानकारी यात्रियों को दी तथा डिपों में संपर्क कर नई बस बुलाई. एक घंटे के इंतजार के बाद एमएच 40 एन 8449 हिंगनघाट-वर्धा बस धोत्रा में यात्रियों को लेने पहुंची. सभी यात्री राहत की सांस लेते हुए बस में बैठ गए. पश्चात बस शुरु होने का इंतजार होने लगा. लेकिन यह बस भी धोखा दे गई, बस धोत्रा तक तो पहुंची परंतु उससे आगे बढ ही नही पायी. यह बस भी शुरु नही होने से यात्रियों ने रोष व्यक्त किया. पश्चात तीसरी बस को बुलाया गया. करीब आधे घंटे बाद हिंगनघाट-अमरावती बस यात्रियों को लेने पहुंची. जिससे सभी यात्री सफर कर वर्धा में पहुंचे.

डेढ घंटे चली मशक्कत

बस की खराबी के चलते दूसरी बस को बुलाया गया. दूसरी बस को आते-आते एक घंटे का समय लगा. बस तो पहुंची लेकिन बस शुरु ही नही हुई. फिर तीसरी बस बुलाई गई. जो आधे घंटे बाद पहुंची, जिसके बाद सभी यात्री वर्धा के लिए रवाना हुए. यानी यात्रियों को करीब डेढ घंटे तक परिवहन महामंडल की मशक्कत के कारण परेशानी झेलनी पडी. 9 बजे के बदले सभी यात्री 10.30 बजे वर्धा पहुंचे.

अनेकों को करना पडा दिक्कतों का सामना

एसटी महामंडल सुरक्षित सफर का दावा हमेशा करती है. परंतु सबसे अधिक परेशानी महामंडल की बसों के कारण ही होती है. करीब डेढ घंटे तक सफर बाधित होने से अनेकों को दिक्कतों का सामना करना पडा. सुबह का समय होने से नोकरीपेशा व कामकाजी अनेक लोग बस का सहारा लेते है. परंतु अचानक बिच रास्ते में ही बस खराब होने से डेढ घंटे तक देरी होने से अनेक लोग समय पर अपने कार्यालय नही पहुंच सके.