File Photo
File Photo

  • हिंगनघाट में 52 स्कूल-कॉलेज शुरू

हिंगनघाट/कारंजा घाडगे. राज्य शासन के आदेश के तहत जिले में स्कूल, कॉलेज अब धीरे-धीरे शुरू किए जा रहे हैं. हिंगनघाट तहसील में 9 वीं से 12 वीं तक के 52 विद्यालय शुरू है. प्रत्यक्ष विद्यार्थियों को पढ़ाया जा रहा है. राज्य शिक्षा विभाग ने शालेय व महाविद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए 9 वीं से 12 वीं तक की कक्षा शुरू करने के आदेश दिए. इस आदेश के माध्यम से तहसील में 57 में से 52 विद्यालय शुरू है.

अनेक विद्यालय व कनिष्ठ महाविद्यालयों में पालक अपने बच्चों को भेजने की स्थिति में नही है. इस संबंध में शिक्षा विभाग ने संबंधित विद्यालय व कनिष्ठ महाविद्यालय के शिक्षक, प्राध्यापक, मुख्याध्यापक व प्राचार्य व पालकों को स्कूल बुलाकर समस्या का निराकरण करने के निर्देश दिए हैं. 

अधिकारी कर रहे मार्गदर्शन

कुछ विद्यालयों में नियमों का पालन कर 20 विद्यार्थियों को 6 फीट की दूरी पर बिठाकर शिक्षा दी जा रही है. विद्यार्थियों की संख्या बढ़ने पर दो समय में कक्षा लेने के आदेश शिक्षा विभाग ने दिए है. गत 10 दिनों से स्थानीय पंचायत समिति में शिक्षा विभाग के खंडशिक्षाधिकारी कोडापे, शिक्षा विस्तार अधिकारी सुहास टकले हर एक विद्यालय, महाविद्यालय में भेंट देकर मार्गदर्शन कर रहे है.

कारंजा के स्कूलों में बढ़ गई है चहल-पहल

कक्षा दसवीं व बारहवीं विज्ञान वाणिज्य कला शाखा विभाग कारंजा में चरण-चरण में कक्षा शुरू होने की जानकारी प्राचार्य ने दी.

भले ही कक्षा शुरू की गई है, परंतु हाईस्कूल व कनिष्ठ महाविद्यालयों में विद्यार्थियों की संख्या कम है. विद्यार्थी स्कूल, कॉलेज पहुंचने के बाद नियमित रूप से थर्मल स्क्रीनिंग की जाती है. सैनिटाइजर कर विद्यार्थियों को कक्षा में प्रवेश दिया जा रहा है. विद्यार्थियों को मास्क का इस्तेमाल करना अनिवार्य है. गत आठ माह बाद फिर विद्यार्थी स्कूलों में उपस्थित रहने से स्कूलों में चहल-पहल बढ़ गई है. 

बस सेवा शुरू करने की मांग

कारंजा में ग्रामीण विभाग के विद्यार्थी स्कूलों में उपस्थित नहीं हो सकते. अब तक ग्रामीण विभाग में बस सेवा शुरू नहीं रहने से विद्यार्थियों के पास आवागमन का साधन नहीं है जिससे विद्यार्थियों का शैक्षणिक नुकसान हो रहा है. विद्यार्थियों का नुकसान न हो, इसके लिए पालकों ने एसटी बस सेवा शुरू करने की मांग की है. 

पालकों का सहमति पत्र जरूरी

हर एक विद्यार्थी को पालक का सहमति पत्र आवश्यक है. एक कक्षा में 25 विद्यार्थियों के बैठने की व्यवस्था की गई है. विद्यार्थियों की उपस्थिति का प्रमाण अल्प है.

-हेमंत ढोले, प्राचार्य मॉडेल हाईस्कूल व कनिष्ठ महा. कारंजा.