75 दिनों तक प्रवासी मजदूरों को कराया भोजन

  • संघ स्वयंसेवकों का सराहनीय उपक्रम

हिंगनघाट. कोरोना वायरस का प्रभाव बढता ही जा रहा है. कोरोना पर मात करने के लिए लॉकडाऊन शुरु किया गया. जिससे वाहन, रेलवे, यातायात व्यवस्था बंद होने के साथ ही काम भी चला जाने से मजदूर वर्ग ने गांव का रुख पकडा. अनेक मजदूर भुखे गांव की ओर निकल पडे. परंतु ऐसे अनेक मजदूरों को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भोजन खिलाकर सहकार्य किया. करीब 75 दिनों तक अनेक मजदूरों को भोजन कराया गया.

नैशनल हाईवे रोड पर ट्रक चालक से लेकर अन्य प्रवासी मजदूर, सेवा देनेवाले पुलिस, होमगार्ड व अन्य मददगांरो के लिए नाश्ता, भोजन, पानी की व्यवस्था की गई. इस सेवाकार्य में संस्था, व्यवसायी, उद्योजक, शक्षिण संस्था ने आर्थिक मदद पहुंचाई. जिसमें माहेश्वरी समाज, भारतीय सिंधु सभा, पैकाजी महाराज संस्था, जामणी, किराणा एसोसिएशन, महाराष्ट्र आलू भंडार (फिरोज खान), अ. भा. डॉक्टर एसोसिएशन, तसेच प्रोग्रेसिव अज्येकेशन संस्था, भारत वद्यिालय, श्रीमती सिरेकुँवरदेवी मोहता वद्यिालय, जेठानंद राजपूत, विजयसिंह मोहता, संजय बोथरा, किशोर कोसुरकर, विठू बेनिवार, मकरंद शिरपुरे, अनजेश पांडे,  सुभाष कुंटेवार, रमेश टपाले, समीर धारकर, पंकज आत्राम, सौरभ वसू, रितेश भातोडे, गौरव ठाकरे, पवन कोल्हे, अक्षय बोरकर, संचित गंडाईत, विनोद उदासी, गुडु शर्मा, संत गोमाजी वार्ड व झुलेलाल महिला मंडल, स्नेहल नगर, रिठे काँलेनी, के महिलाओं ने सहकार्य किया.