Crop Loss by Rain

  • कृषि मंत्री से शिकायत, न्याय की गुहार

वर्धा. फसल बीमे के तहत अल्प मुआवजा दिये जाने को लेकर किसान ने संबंधितों से पूछताछ की़ किसान को संतुष्ट करने की बजाए बीमा प्रतिनिधि द्वारा उसे धमकी देने की बात सामने आयी़ इस संबंध में पीड़ित किसान ने कृषि मंत्री दादा घुसे के पास शिकायत की है़ लगातार की बारिश से धामनगांव (वा़) के किसान प्रवीण दिवाकर ठाकरे, वृषाली ठाकरे, दीवाकर ठाकरे व विमल ठाकरे के खेत में सोयाबीन की फसल बर्बाद हुई़ फसल बीमा होने के कारण उन्होंने इसकी सूचना बीमा कंपनी के प्रतिनिधि को दी.

कृषि विभाग के अधिकारी व बीमा कंपनी के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में नुकसानक्षेत्र का सर्वेक्षण कर पंचनामा तैयार किया गया़ संबंधित किसानों का 90 फीसदी नुकसान होने की बात पंचनामा में दर्ज की गई है़ इसके अनुसार किसान प्रवीण ठाकरे को दो हेक्टेयर के नुकसान के लिए 83 हजार, वृषाली ठाकरे को 41 हजार 500, दिवाकर ठाकरे को 83 हजार व विमल ठाकरे को भी 83 हजार रुपए नुकसान भरपाई दी जानी थी़ परंतु बीमा कंपनी की ओर से प्रवीण ठाकरे को 45 हजार 800, वृषाली ठाकरे को 9 हजार, दिवाकर ठाकरे को 22 हजार 500 व विमल ठाकरे को 20 हजार 250 रुपए नुकसान भरपाई की राशि बैंक खाते में प्राप्त हुई.

सख्त कार्रवाई करने की लगाई गुहार

अल्प भरपाई मिलने के कारण किसानो ने सवाल उपस्थित किये़ एक ही दिन नुकसान का पंचनामा किया गया़ इसकी रिपोर्ट में लगभग एक ही आयी़ 90 फीसदी नुकसान दर्ज किया गया, फिर भरपाई की राशि कम क्यों. जिला कृषि अधीक्षक कार्यालय में बीमा प्रतिनिधि से भेंट करने पर उन्होंने किसानों को सीधे धमकी दे दी़ न्यायालय में जाने की सलाह देते हुए राजस्व विभाग की जांच लगाने की बात कही़ इतना ही नहीं तो बीमा प्रतिनिधि ने किसान को फोन कर कोर्ट में जाने की सलाह देते हुए देख लेने की धमकी दी़ पीड़ित किसान ने कृषि मंत्री, जिलाधिकारी, विधायक, बीमा कंपनी, तहसील कृषि अधिकारी के पास अपनी शिकायत दर्ज की है़ संबंधित बीमा कंपनी प्रतिनिधि के खिलाफ सख्त कार्रवाई की करें. हमें उचित नुकसान भरपाई अदा करने की मांग प्रवीण ठाकरे ने की है.