सीएम का वादा पूरा करने में जुटा एमएसआरडीसी

  • युद्धस्तर पर चला रहा समृद्धी महामार्ग का कार्य

वर्धा. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की घोषणा के उपरांत महाराष्ट्र दिन के अवसर पर शिर्डी तक मार्ग शुरू करने के लिये मएसआरडीसी युद्धस्तर पर काम में जुट गया है. अधिकारियों ने नवभारत से बातचित के दौरान 30 अप्रैल तक सीएम का वादा पुरा करने का प्रयास होने की बात कहकर दिन रात काम शुरू होने की जानकारी दी.

तत्कालीन भाजपा–सेना सरकार के कार्यकाल के दौरान समृद्धि महामार्ग की नीव रखी गई थी. विदर्भ के लिये यह महामार्ग वास्तविकता में समृद्धि लानेवाला साबित होनेवाला है. 56 हजार करोड रूपयों की लागत से 701 किमी का नागपुर- मुंबई आठ लेनवाले मार्ग से मुंबई तक की दुरी केवल 8 घंटे में पुरी होनेवाली है. मार्ग पर 150 किमी की रफ्तार से वाहन दौडेंगे. जिससे विदर्भ की सब्जी, फल व अन्य माल चंद घंटों में मुंबई में पहुचेंगा. मार्ग की रूंदी 2120 मीटर है. राज्य के 10 जिलों के 26 तहसील के 390 गावों से यह मार्ग गुजरनेवाला है. सेलू तहसील के सेलडोह से आर्वी तहसील के विरूल समीप वर्धा नदी तक कुल 58.400 किमी का मार्ग जिले के सेलु, वर्धा व आर्वी तहसील से गुजरनेवाला है. जिसमें छोटे तथा बड़े कुल 223 पुलों का निर्माण होनेवाला है. 168 पुलों का निर्माण पूर्ण हुआ है व 38 पुलों का निर्माण कार्य प्रगतिपथ पर होने की जानकारी एमएसआरडीसी के अधिकारियों ने दी.

कुल 9 फ्लाईओवर में से 2 का काम पूर्ण हुआ और 7 का काम प्रगतिपथ पर है. 2 आरओबी, बडे 3 पुल तथा 24 छोटे पुलो के साथ अन्य कुल 223 पुल है. 58.400 किमी में 55.700 मीटर का मट्टी काम प्रस्तावित है तथा शेष मार्ग में पुल रहेंगे. अबतक कुल 41.600 किलो मीटर का मट्टी काम पूर्ण हो चुका है. 36.500 किलोमीटर का गिट्टिकाम व 33 किमी का ड्रायल कांक्रीट पूर्ण होने की जानकारी अधिकारियों ने दी. 15 किमी का बाई और का तथा 17 किमी का दाई और का सिमेंटीकरण का कार्य पूर्ण हो चुका है. जिले में 2 इंटर चेंज मार्ग होंगे. 

वन्यजीवों के लिये विशेष पुल

महामार्ग निर्माण के दौरान वन्यजीवों का भी खास ख्याल रखा गया है. वाईल्ड लाइफ की ओर से दी गई सूचना के अनुसार वन्यजीवों के लिए जिले में दो फ्लाईओवर बनाए जा रहे है. पहला फ्लाईओवर विरुल समीप 71.600 किमी पर तथा दूसरा 78.500 किमी पर होगा. पुल की खास बात यह है कि, सडक के उपर से वन्यजीव आवागमन करेंगे. उपरी हिस्सा पुल पर रहेगा. किंतु वन्यजीवों को यह पुल जंगल की तरह की लेगेगा. जिसके लिए पुल पर पौधे लगाए जाएंगे. जिससे वन्यजीवों के मार्ग में किसी भी प्रकार की रुकावट नही आयेगी.

वर्धा नदी पर चरखे की प्रतिकृति

मार्ग के निर्माण के दौरान वर्धा नदी पर 89 किमी पर चरखे की प्रतिकृति में पुलिया का निर्माण किया जानेवाला है. जिसका कार्य जोरो से शुरु है. गांधी जिले में आगमन होते ही यह चरखा सभी का ध्यानाकर्षण करेंगा. 

दिन-रात चल रहा काम

अधिकारियों ने बताया कि, सीएम के निर्देश के उपरांत दी हुई डेडलाईन के अनुसार मार्ग का निर्माण पूर्ण करने के लिए युद्धस्तर पर कार्य किया जा रहा है. कंपनी द्वारा दिनरात पुलिया व सडकों का निर्माण किया जा रहा है. 30 अप्रैल तक शिर्डी तक की लाइन का कार्य पूर्ण होगा. ऐसा विश्वास अधिकारी ने व्यक्त किया.

व्यापार व किसानों को लाभ होगा

समृद्धि महामार्ग की नीव फडणवीस सरकार के कार्यकाल में रखी गई थी. महाविकास आघाडी सरकार के कार्यकाल में मार्ग का निर्माणकार्य कछुआ गति से चल रहा है. जिससे 1 मई को मार्ग शुरु नही हो सकता है. उपराजधानी को राजधानी से कनेक्ट करनेवाला यह मार्ग है. मार्ग के कारण किसान व व्यापारियों को अपना माल पहुंचाना आसान होगा. जिससे रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे. साथ ही आर्थिक वृद्धि भी होगी.

डा़ पंकज भोयर, विधायक वर्धा

विकास का मार्ग

विद्यमान मुख्यमंत्री ठाकरे ने समृद्धि महामार्ग को लेकर टिप्पनी की थी, किंतु आज वही यह मार्ग जल्द शुरु हो, इसके लिए कह रहे है. महामार्ग के कारण जिले के विकास को नए अवसर प्राप्त होंगे. विरुल में इंटरचेंज मार्ग होने के कारण आर्वी, विरुल, पुलगांव आदी परिसर में रोजगार के नए अवसर उपलब्ध होंगे, साथ ही बाजारपेठ का निर्माण होगा. जिससे यह मार्ग विकास के लिए समृद्ध साबित होगा.

दादाराव केचे, विधायक आर्वी