सर्व सेवा संघ की संपत्ति गबन करने का प्रयास – विद्रोही

  • नए अध्यक्ष के चयन को बताया असंवैधानिक

वर्धा. आदर्श का पाठ पढानेवाले गांधीवादी अब लढने लगे है़  गत कुछ माह से सेवाग्राम आश्रम व सर्वसेवा संघ में उपजा विवाद अब गंभीर मोड ले रहा है़ सर्व सेवा संघ के अध्यक्ष पद से हटाने के बाद महादेव विद्रोही ने एक गांधीवादी गुट पर गंभीर आरोप लगाये है़ शनिवार को आयोजित पत्रपरिषद में महादेव विद्रोही ने इस विवाद की असली जड सर्व सेवा संघ की संपत्ती होने का बडा खुलासा करने से मामले ने अधिक तुल पकडा है़ उन्होंने सर्वसेवा संघ के मनोनीत लोकसेवक अविनाश काकडे तथा उनके सहयोगियों पर गंभीर आरोप लगाते हुए ऑनलाईन बैठक व नए अध्यक्ष के चयन को असंवैधानिक करार दे दिया.

सर्व सेवा संघ के अध्यक्ष महादेव विद्रोही ने पत्रपरिषद में बताया कि, एमगिरी तथा बरबडी में सर्व सेवा संघ की जमीन है़ इसे सरकार ने अधिग्रहित किया है़ मुआवजे के तौर पर कम राशी आने से इसके खिलाफ अपील दायर की गई थी़ हालहि में इस संबंध में चैरिटेबल ट्रस्ट ने निर्णय दिया़ उक्त जमीन के ऐवज में सर्वसेवा संघ को 21 करोड 90 लाख रुपए मिलनेवाले है़ उक्त राशी के लिए तथा संपत्ती पर कब्जा जमाने मुझे पद से हटाने का षडयंत्र रचा गया़ इसके पिछे अविनाश काकडे सहित अन्य कुछ लोगों की साजीश है़ सर्वसेवा संघ के माल्कियत की जमीनो पर काकडे, श्रीकांत बाराहाते सहित कुछ लोगों ने अवैध कब्जा जमाया है, ऐसा आरोप भी विद्रोही ने लगाया.

मेरा कार्यकाल समाप्त होने के कारण 30 व 31 मार्च को केरल में सर्व सेवा संघ के लोकसेवको का राष्ट्रीय सम्मेलन होना था़ इसमें नए अध्यक्ष का चयन किया जाना था़ परंतु कोरोना के चलते लॉकडाऊन घोषीत होने से उक्त बैठक रद्द कर दी गई़ आगामी बैठक होने तक संवैधानिक तौर पर अध्यक्ष की जिम्मेदारी मेरी है़ अविनाश काकडे अधिकारिक तौर पर सर्व सेवा संघ संचालक मंडल के किसी भी पद पर नहीं है़  केवल सदस्यों के सहमती से उन्हें लोकसेवक की जिम्मेदारी सौंपी गई है़ जबकि आश्रम प्रतिष्ठान के अध्यक्ष के नियुक्ती के अधिकार भी मुझे है़  मैने ही टीआरएन प्रभू की नियुक्ती की़ परंतु उनका व्यवहार गांधीजी द्वारा बनाये गए नियमों के विरुध्द रहा़ इस लिए उनके खिलाफ कार्रवाई की गई थी, ऐसा भी विद्रोही ने बताया.

सर्वसेवा संघ के नए अध्यक्ष का चयन असंवैधानिक है़ इसके लिए उत्तरप्रदेश के फरुखाबाद में 5 व 6 दिसंबर 2020 को चुनाव होंगा़ जहां नए अध्यक्ष का चयन किया जाएगा़ इस दौरान सभी जिला सर्वोदय मंडल के अध्यक्ष व प्रतिनिधी उपस्थित रहेंगे़ कुल संख्या के 10 फिसदी लोगों को ही मतदान का अधिकार है़ इन्हीं लोगों को किसे हटाने हैं अथवा किसे नियुक्त करना है, इसका अधिकार है, ऐसा भी विद्रोही ने बताया़ पत्रपरिषद में राजेंद्र शर्मा, इक्राम हुसैन, प्रमोद हिवाले, सलीम कुरैशी आदि उपस्थित थे़  

तीन वर्षों से चल रहा विवाद

यह विवाद पिछले तीन वर्षों से चल रहा है़ इसकी शुरुवार 2 अक्टूबर 2018 से हुई़ जब राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण सेवाग्राम पहुंचे तब उन्हें प्रार्थनास्थल पर आश्रम के अध्यक्ष प्रभू ने प्रार्थना करने से मनाई की थी़ साथ ही कांग्रेस के झेंडे के निचे किसी प्रकार का कार्यक्रम नहीं होंगा, ऐसा बताया गया था़ वहीं दूसरी ओर भाजपा के पूर्व मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने आश्रम परिसर में कार्यक्रम लिया था़ जहां भाजपा के झंडे भी लगाए गए थे़ इस दौरान काफी मदभेद उजागर हुए, ऐसा भी उन्होंने बताया़ 

राष्ट्रपति दौरे के समय नियमों का उल्लंघन

आश्रम नियमो के अनुसार सभी के साथ समान व्यवहार होता है़ परंतु राष्ट्रपति कोविंद के दौरे में अनेक नियमों का उल्लंघन किया गया़ इस दौरान भी आश्रम प्रतिष्ठान अध्यक्ष, जिला प्रशासन व मेरे बिच मतभेद सामने आये थे़ दौरे के पूर्व कुछ ऐसी घटना घटी, जो आश्रम नियमों के खिलाफ थी़ राष्ट्रपति दौरे के समय सर्व सेवा संघ का कोई भी सदस्य यहां नहीं पहुंचा था़ 

धर्मदाय आयुक्त की ओर शिकायत

24 को मैं सेवाग्राम पहुंचा, जहां संघ कार्यालय तथा मेरे निवास पर ताला जडा हुआ था़ द्वार पर शराब के नशे में डंडा लेकर एक आदमी खडा था़ पुछने पर उसने बताया कि, अविनाश काकडे ने किसी को भितर जाने से मना कर दिया़ इस लिए मैने वर्धा के एक मीत्र के यहां आसरा लिया है़  निवास में मेरी संपुर्ण सामग्री व मेरे हस्ताक्षर के चेक है़ इसमें किसी भी प्रकार की गडबडी होने की आशंका है़ इस लिए मैंने सेवाग्राम थाने में अविनाश काकडे के खिलाफ शिकायत दर्ज की है़ साथ ही संपुर्ण प्रकरण में बतौर अध्यक्ष 25 सितम्बर को धर्मदाय आयुक्त की ओर शिकायत दर्ज की है, ऐसा विद्रोही ने कहा़ इस संबंध में आश्रम प्रतिष्ठान के अध्यक्ष टीआरएन प्रभू तथा अविनाश काकडे से संपर्क करने पर किसी प्रकार का प्रतिसाद नहीं मिला़

चंदन पाल ने स्विकारा पदभार

इस विवाद के बिच शनिवार की सुबह 10.30 बजे सर्व सेवा संघ के नवनियुक्त अध्यक्ष चंदन पाल ने अपना पदभार स्विकारा़ उन्होने अपनी नियुक्ति को संवैधानिक बताया़ इस प्रसंग पर सेवाग्राम आश्रम के अध्यक्ष टिआरएन प्रभु, प्रदेश सर्वोदय मंडल अध्यक्ष डा़ शिवचरण ठाकुर, अविनाश काकडे, गौरांग महापात्रा, मोहन खैरकर आदी उपस्थित थे़