Sangli milk scandal: Sunil Kedar's meeting with farmer leaders begins

    वर्धा‍. शहर की जलापूर्ति योजना का कार्य अधूरा रहने के कारण पालकमंत्री सुनील केदार ने संबंधित अधिकारियों को फटकार लगाई. योजना के कार्य में विलंब होने के कारण इसकी जांच कर दोषियों पर कानूनी कार्रवाई करने के साथ जुर्माना ठोकने के निर्देश दिए़  वर्ष 2014-15 में 35 करोड़ की जलापूर्ति योजना को मंजूरी मिली थी़  योजना का काम ठेकेदार ने करीब 22 प्रतिशत बिलों कास्ट पर लिया था़  2 वर्ष के भीतर पाइप लाइन के साथ टंकियों का निर्माण करने का प्रावधान था.

    परंतु 6 वर्ष बीतने के बाद भी योजना का कार्य पूर्ण नहीं हुआ़  योजना का अनेक जगह पर अधूरा कार्य होने के कारण नागरिकों को अभी भी जलापूर्ति करने में दिक्कतें आ रही है़  योजना की कार्यप्रणाली के संदर्भ में जिला नियोजन समिति की बैठक में प्रश्न उपस्थित होने के कारण पालकमंत्री ने संबंधित अधिकारियों की खिंचाई करके  योजना के विलंब को लेकर चिंता जताई.  

    प्रशासन की लापारवाही से काम नहीं हुआ पूरा 

    नागरिकों को शुद्ध व पर्याप्त जलापूर्ति करना सरकार का कर्तव्य है़  किंतु प्रशासन की लापरवाही के चलते योजना का कार्य पूर्ण नहीं हुआ, ऐसा कहते हुए योजना में भ्रष्टाचार कर सरकार को चुना लगाने वालों पर कार्रवाई के आदेश पालकमंत्री ने दिए.

    उल्लेखनिय है कि तत्कालीन पाकलमंत्री सुधीर मुनगंटीवार व चंद्रशेखर बावनकुले ने भी योजना के विलंब को लेकर ठेकेदार पर जुर्मानात्मक कार्रवाई करने के आदेश देने के बावजूद ठेकेदार से जुर्माना क्यों वसूला नहीं गया, ऐसा प्रश्न उपस्थित कर अधिकारी व ठेकेदार की सांठगांठ होने का आरोप भी पालकमंत्री ने लगाया़  फलस्वरूप संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई करने के आदेश पालकमंत्री ने दिए़ 

    जिल में चल रही अन्य योजनाओं का लिया जायजा

    प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत सरकारी अतिक्रमण नियमानुकुल किए पात्र लाभार्थियों को पट्टे वितरित किए गए है. साथ ही कोरोना काल में कार्यरत ठाणेगांव स्थित आंगनवाड़ी सेविका जानकी तुलसीराम भांगे का कोरोना से मौत हो गई. उन्हें सरकार की ओर से 50 लाख रुपए का अनुदान का चेक पालकंत्री के हस्ते परिजनों को दिया गया़  नाविण्यपूर्ण योजना के अंतर्गत 75 बचत गुट के उद्योग के लिए निधि पालकमंत्री द्वारा वितरित किए गए. बैठक में नियोजन समिति के सदस्य व संबंधित विभाग प्रमुख उपस्थित थे.