Holi
File Photo : PTI

    वर्धा. बढ़ते कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए जिलाधिकारी प्रेरणा देशभ्रतार ने 60 घंटे का कर्फ्यू लागू कर दिया था़ इस दौरान सार्वजनिक ठिकानों पर होलिका दहन व धूलिंवदन पर पाबंदी लगाई गई थी़ बावजूद इसके जिले में बेखौफ होकर युवाओं ने रंग उंडेला. कुछ लोगों को इसका खामियाजा भी चुकाना पड़ा. पुलिस ने नियम तोड़ने वालों के खिलाफ जुर्मानात्मक व कानूनी कार्रवाई की़ जिले में प्रतिदिन कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है.

    दिन-ब-दिन स्थिति भयावह हो रही है. इस पर नियंत्रण पाने प्रशासन पुरजोर कोशिश कर रहा है़ प्रतिबंधात्मक उपाय योजना की जा रही है. परंतु स्थिति जस की तस बनी हुई है़ ऐसे में होली का त्योहार पर कोरोना संक्रमण के फैलाव का डर था़ परिणामवश जिलाधिकारी ने जिले में 60 घंटे का कर्फ्यू जारी कर दिया.

    कर्फ्यू के बावजूद नहीं दिखा डर 

    इसमें 28 मार्च को होली पर सार्वजनिक स्थानों पर होली न जलाने, भीड़ न करने के निर्देश दिये गए थे़  बावजूद इसके कई ठिकानों पर नियमों की धज्जियां उड़ी. दूसरी ओर 29 मार्च को धूलिवंदन पर कानून व्यवस्था बनी रहे, इसलिए पुलिस का बंदोबस्त लगाया गया था़  सार्वजनिक स्थल पर रंग न खेलने के निर्देश थे, परंतु युवाओं ने इन निर्देशों की ओर अनदेखी करते हुए खूब रंग उंडेले. कुछ ठिकानों पर नियमों का सख्ती से पालन भी हुआ़  नियम तोड़ने वालों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई करने की जानकारी है. 

    मटन विक्रेताओं पर की कार्रवाई

    शहर व आसपड़ोस के परिसर में धूलिवंदन के दिन बड़ी संख्या में चोरी छुपे मटन व चिकन की बिक्री की गई. जहां सोशल डिस्टेंसिंग सहित अन्य नियमों की धज्जियां उड़ती दिखाई दी़  यह बात ध्यान में आने से कुछ मटन विक्रेताओं के खिलाफ पुलिस ने जुर्मानात्मक कार्रवाई किए जाने की खबर है.