अज्ञात की गुत्थी सुलझाने गए, पुलिस को मिला दूसरी हत्या का आरोपी

वाशिम. जिले के जऊलका पुलिस स्टेशन अंर्तगत आनेवाले पिंपला ग्राम में अधजली अज्ञात लाश की तलाश के लिए गए अपराध शाखा के दल को इस जांच के दौरान दूसरी ही हत्या का मामला उजागर होने से वे हतप्रभ रह गए. इस

वाशिम. जिले के जऊलका पुलिस स्टेशन अंर्तगत आनेवाले पिंपला ग्राम में अधजली अज्ञात लाश की तलाश के लिए गए अपराध शाखा के दल को इस जांच के दौरान दूसरी ही हत्या का मामला उजागर होने से वे हतप्रभ रह गए. इस प्रकरण में पुलिस ने दो आरोपी को हिरासत में लिया. दो आरोपी फरार होने की जानकारी जिला पुलिस अधीक्षक मोक्षदा पाटिल ने दी है.

चव्हाण के लापता होने की मिली जानकारी
जिला पुलिस अधीक्षक के कक्ष में आयोजित पत्र परिषद में उन्होंने कहा कि, जऊलका के अज्ञात की हत्या प्रकरण में स्थानीय अपराध शाखा के पुलिस निरीक्षक शिवाजी ठाकरे व जऊलका पुलिस स्टेशन के थानेदार सहा़ पु़ निरक्षिक जाधव ने अपनी टीम के साथ उपरोक्त पहली अज्ञात हत्या की तलाश करते समय गोपनीय जानकारी के अनुसार बोर्डी गांव के रामदास चव्हाण 35 वर्ष यह विगत 4 से 5 दिनों से लापता होने की जानकारी मिली.

आरोपी ने कबूला, रस्सी से घोंटा था गला
पुलिस ने पांगरी नवघरे ग्राम से वैभव नवघरे व बोर्डी ग्राम से सुरेश चव्हाण को संदेह के आधार पर हिरासत में लेकर पुलिसिया तरीके से पूछताछ करने पर सुरेश चव्हाण ने हत्या करने का कबुल किया़ उसका भाई नारायण चव्हाण व साला वैभव नवघरे व अन्य दिलीप नखाते ने अपने चाचा रामदास पिराजी चव्हाण की पिटाई कर रस्सी से उसका गला घोटकर जान से मार डाला व यह लाश एक बोरे में डालकर बोरे में बडा पत्थर रखकर कुए में डाल दिया़ यह सुनकर पुलिस हतप्रभ रह गए़ एक हत्या की तलाश में गए पुलिस को दूसरी हत्या का मामला उजागर हुआ.

कुंए से बाहर निकाली लाश
आरोपी के बताए अनुसार ,पुलिस दल ने संत गाडगेबाबा आपतकालीन मदद दस्ते की सहाय्यता से 26 सितबंर को देर रात लाश को बाहर निकाला गया़ यह लाश रामदास चव्हाण की ही होने का बोर्डी ग्राम वासियो ने स्पष्ट किया. एक अज्ञात व्यक्ति की हत्या मामले में जांच कर रहे पुलिस को मात्र दूसरी हत्या का मामला उजागर हुआ़ पुलिस ने इस प्रकरण में आरोपी सुरेश बलीराम चव्हाण ,वैभव नवघरे इन दोनों को गिरप्तार कर लिया़ जब की अन्य दो फरार होने से उनकी तलाश की जा रही है. इस कार्रवाई में जिला पुलिस अधीक्षक मोक्षदा पाटिल के मार्गदर्शन में अपराध शाखा के पुलिस निरीक्षक शिवाजी ठाकरे, पु़ उ़ नि़ सुनिल पाटिल, सहा़ पु़ नि़.जाधव, मोहणकर, गोरे, भगवान गांवडे के साथ अन्य पुलिस कर्मियों ने भाग लिया.